पर्यायवाची शब्द क्या होते है ? विलोम शब्द और पर्यायवाची शब्द में अंतर l

Paryayvachi Shabd in Hindi

ये भी जाने :

पर्यायवाच शब्दों – (ऊ )

ऊँचा- तुंग, उच्च, बुलंद, उर्ध्व, उत्ताल, उन्नत, ऊपर, शीर्षस्थ, उच्च कोटि का, बढ़िया, अच्छा, चोटी का, गगनस्पर्शी।
ऊँचाई- बुलंदी, उठान, उच्चता, तुंगता, बुलन्दी।
ऊँचा करना- उन्नत करना, उत्थित करना, ऊपर उठाना।
ऊँट- करभ, उष्ट्र, लंबोष्ठ, साँड़िया।
ऊखल- ओखली, उलूखल, कूँडी।
ऊसर- अनुपजाऊ, बंजर, अनुर्वर, वंध्या, भूमि।
ऊधम- उपद्रव, उत्पात, धूम, हुल्लड़, हुड़दंग, धमाचौकड़ी।
ऊँघ- तंद्रा, अर्द्ध-निद्रा, झपकी, ऊँघाई।
ऊँघना- झपकी लेना, तंद्रिल होना, तंद्राभिभूत होना, अलसाना, सुस्त पड़ना, पलक मारना, निद्रालु होना, अर्द्धनिद्रित होना, औंघाना, झपकी।
ऊधम- उत्पात, उपद्रव, दंगा, फ़साद, हुल्लड़, हंगामा, होहल्ला, धमाचौकड़ी।
ऊल-जलूल- अव्यवस्थित, बेढंगा, बेतुका, बेमेल, अक्रमिक, अविचारित, अस्तव्यस्त।
उषाकाल- प्रातः काल, सवेरा, तड़का, अरुणोदय, प्रभात, प्रातः, उदयकाल, सुबह, अमृतबेला, सूर्योदय।
ऊष्मा- तपन, गर्मी, ताप, जलन।

पर्यायवाच शब्दों – (ऋ )

ऋक्ष- भालू, रीछ, भीलूक, भल्लाट, भल्लूक।
ऋक्षेश- चंद्रमा, चंदा, चाँद, शशि, राकेश, कलाधर, निशानाथ।
ऋण- कर्ज, कर्जा, उधार, उधारी।
ऋणी- कर्जदार, देनदार।
ऋतु- रुत, मौसम, मासिक धर्म, रज:स्राव।
ऋतुराज- बहार, मधुमास, वसंत, ऋतुपति, मधुऋतु।
ऋषभ- वृष, वृषभ, बैल, पुंगव, बलीवर्द, गोनाथ।
ऋषि- साधु, महात्मा, मुनि, मनीषी, योगी, मन्त्र द्रष्टा, सूक्तद्रष्टा, तपस्वी।
ऋष्यकेतु- कामदेव, मकरकेतु, मकरध्वज, मदन, मनोज, मन्मथ।
त्राण- रक्षा, डर, आशंका, संत्रास।
त्रुटि-कमी, न्यूनता, अभाव, अशुद्धि, भूल, चूक, अपराध।

पर्यायवाच शब्दों – (ए )

एकतंत्र- राजतंत्र, एकछत्र, तानाशाही, अधिनायकतंत्र।
एकदंत- गणेश, गजानन, विनायक, लंबोदर, विघ्नेश, वक्रतुंड।
एतबार- विश्वास, यकीन, भरोसा।
एषणा- इच्छा, आकांक्षा, कामना, अभिलाषा, हसरत।
एहसान- कृपा, अनुग्रह, उपकार।
एक करना- एकीकरण करना, सम्मिलित करना, मिलाना, जोड़ना, संघटित करना, संगठन बनाना।
एकता- मेल, मेलजोल, मेलमिलाप, संगठन, संघ, समानता, बराबरी, सामंजस्य, समन्वय, एकरूपता, एकसूत्रता, एकत्व, संश्रय, सद्भाव, सुमति।
एकरूप- समरूप, तुल्यरूप, अभिन्न, अनुरूप, समानता, सादृश्य, अभेद।
एकांत- निर्जन, सूना, शांत, शून्य, सुनसान, अकेला, एकाकी, तनहा, वीरान, विथावान।
एकांतप्रेमी- एकांतिक, एकांतप्रिय, लज्जालु, लज्जाशील, संकोची, शर्मीला।
एकांतवास- निर्जनवास, गुप्तावास, विजनवास।
एकाग्रता- दत्तचित्तता, लगन शीलता, तन्मयता, तल्लीनता।

पर्यायवाच शब्दों – (ऐ)

ऐंठ- कड़, दंभ, हेकड़ी, ठसक।
ऐबी- बुरा, खोटा, दुष्ट, अवगुण, गलती, त्रुटि, खामी, खराबी, कमी, अवगुण।
ऐयार- धूर्त, मक्कार, चालाक।
ऐहिक- सांसारिक, लौकिक, दुनियावी।
ऐक्य- एकत्व, एका, एकता, मेल।
ऐश्वर्य- धन-सम्पत्ति, विभूति, वैभव, समृद्धि, सम्पन्नता, ऋद्धि-सिद्धि।
ऐंठन- ऐंठ, मरोड़, बल, तनाव, अकड़, गर्व, घमंड, कुटिलभाव।
ऐंठना- उमेठना, मरोड़ना, इतराना, अकड़ना, शेखी बघारना।
ऐंद्रिक- ऐंद्रिय, इन्द्रियगत, इंद्रिय विषयक, इंद्रियजनित, इंद्रियजन्य।
ऐच्छिक- स्वैच्छिक, वैकल्पिक, इच्छानुसारी।
ऐयाश- कामी, कामुक, भोगी, लम्पट, विलासी, विषयी, भोगनिरत, विषयासक्त, कामाचारी, व्यभिचारी।
ऐयाशी- काम, कामचरिता, विलासता, भोग, विषयासक्ति, इंद्रियलोलुपता।
ऐश- सुख, चैन, आराम, ऐयाशी, विलास, भोग-विलास, व्याभिचार।

पर्यायवाच शब्दों – (ओ )

ओज- तेज, शक्ति, बल, चमक, कांति, दीप्ति, वीर्य।
ओजस्वी- बलवान, बलशाली, बलिष्ठ, पराक्रमी, जोरावर, ताकतवर, शक्तिशाली, शक्तिमान, जोरदार, सशक्त, सबल, वीर्यवान, कांतिवान, दीप्तिमान, तेजस्वी।
ओंठ- ओष्ठ, अधर, लब, रदनच्छद, होठ।
ओला- हिमगुलिका, उपल, करका, बिनौरी, तुहिन, जलमूर्तिका, हिमोपल।
ओस- नीहार, तुषार, तुहिन, निशाजल, शीत, शबनम, कण।
ओहार- आवरण, परदा, आच्छादन।
ओंकार- प्रणव, बीज-मंत्र, वेदमाता, ओउम।
ओखली- उलूखल, ऊखल।
ओछा- अधम, नीच, तुच्छ, कमीना, क्षुद्र, छिछोरा, नगण्य, बुरा, खोटा, छिछला, उथला, घटिया, हलका।
ओझल- अदृश्य, अंतर्धान, तिरोहित, लुप्त, छिपा हुआ, गायब, विलुप्त।
ओझाई- अभिचार, पिशाचविद्या, श्मशानतंत्र, इंद्रजाल, मन्त्र, जादू, टोना।
ओट- आड़, परदा, छिपाव, दुराव।
ओढ़ना- पहनना, धारण करना, लपेटना, ढकना।
ओर- दिशा, तरफ, पक्ष, किनारा, छोर, सिरा, अन्त।

पर्यायवाच शब्दों – (औ )

औचक- अचानक, यकायक, सहसा।
औरत- स्त्री, जोरू, घरनी, महिला, मानवी, तिरिया, नारी, वनिता, घरवाली।
औचित्य- उपयुक्तता, तर्कसंगति, तर्कसंगतता।
औलाद- संतान, संतति, आसऔलाद, बाल-बच्चे।
औषधालय- चिकित्सालय, दवाखाना, अस्पताल, हस्पताल, चिकित्सा भवन, शफाखाना।
औजार- उपकरण, यंत्र, हथियार।
और- दूसरा, भिन्न, अन्य, पराया, अधिक ज्यादा, एवं तथा व, के साथ, के अतिरिक्त, के साथ-साथ।

पर्यायवाच शब्दों – (क )

कमल नलिन, अरविन्द, उत्पल, अम्भोज, तामरस, पुष्कर, महोत्पल, वनज, कंज, सरसिज, राजीव, पद्म, पंकज, नीरज, सरोज, जलज, जलजात, शतदल, पुण्डरीक, इन्दीवर।
किरण- गभस्ति, रश्मि, अंशु, अर्चि, गो, कर, मयूख, मरीचि, ज्योति, प्रभा।
कामदेव- मदन, मनोज, अनंग, आत्मभू, कंदर्प, दर्पक, पंचशर, मनसिज, काम, रतिपति, पुष्पधन्वा, मन्मथ।
कपड़ा- मयुख, वस्त्र, चीर, वसन, पट, अंशु, कर, अम्बर, परिधान।
कुबेर- कित्ररेश, यक्षराज, धनद, धनाधिप, राजराज।
किस्मत- होनी, विधि, नियति, भाग्य।
कच- बाल, केश, कुन्तल, चिकुर, अलक, रोम, शिरोरूह।
कबूतर- कपोत, रक्तलोचन, पारावत, कलरव, हारिल।
कण्ठ- ग्रीवा, गर्दन, गला, शिरोधरा।
कृपा- प्रसाद, करुणा, अनुकम्पा, दया, अनुग्रह।
किताब- पोथी, ग्रन्थ, पुस्तक।
किनारा- तीर, कूल, कगार, तट।
किसान- कृषक, भूमिपुत्र, हलधर, खेतिहर, अन्नदाता।
कृष्ण- राधापति, घनश्याम, वासुदेव, माधव, मोहन, केशव, गोविन्द, मुरारी, नन्दनन्दन, राधारमण, दामोदर, ब्रजवल्लभ, गोपीनाथ, मुरलीधर, द्वारिकाधीश, यदुनन्दन, कंसारि, रणछोड़, बंशीधर, गिरधारी।
कान- कर्ण, श्रुति, श्रुतिपटल, श्रवण, श्रोत, श्रुतिपुट।
कोयल- कोकिला, पिक, काकपाली, बसंतदूत, सारिका, कुहुकिनी, वनप्रिया।
क्रोध- रोष, कोप, अमर्ष, गुस्सा, आक्रोश, कोह, प्रतिघात।
कार्तिकेय- कुमार, षडानन, शरभव, स्कन्द।
कुत्ता- श्वा, श्रवान, कुक्कुर। शुनक, सरमेव।
कल्पद्रुम- देवद्रुम, कल्पवृक्ष, पारिजात, मन्दार, हरिचन्दन।
काक- कौआ, वायस, काग, करठ, पिशुन।
कंगाल- निर्धन, गरीब, रंक, धनहीन।
कंचन- स्वर्ण, सोना, कनक, कुंदन, हिरण्य।
कंजूस- कृपण, सूम, मक्खीचूस।
कंटक- काँटा, खार, सूल।
कंदरा- गुफा, खोह, विवर, गुहा।
कछुआ- कच्छप, कमठ, कूर्म।
कटक- फौज, सेना, पलटन, लश्कर, चतुरंगिणी।
कद्र- मान, सम्मान, इज्जत, प्रतिष्ठा।
कमजोर- निर्बल, बलहीन, दुर्बल, मरियल, शक्तिहीन।
कमला- लक्ष्मी, महालक्ष्मी, श्री, हरप्रिया।
कर्ज- उधार, ऋण, कर्जा, उधारी, कुसीद।
कलानाथ- चंद्रमा, कलाधर, सुधाकर, सोम, सुधांशु, हिमांशु, तारापति।
कल्याण- भलाई, परहित, उपकार, भला।
कष्ट- तकलीफ, पीड़ा, वेदना, दुःख।
काग- कौआ, कागा, काक, वायस।
कातिल- खूनी, हत्यारा, घातक।
कामधेनु- सुरभि, सुरसुरभि, सुरधेनु।
कायर- कापुरुष, डरपोक, बुजदिल।
काल- समय, वक्त, वेला।
कालकूट- जहर, विष, गरल, हलाहल।
काला- श्याम, कृष्ण, कलूटा, साँवला, स्याह।
किनारा- तट, तीर, कगार, कूल, साहिल।
किरण- किरन, अंशु, रश्मि, मयूख।
किरीट- ताज, मुकुट, शिरोभूषण।
किश्ती- कश्ती, नाव, नौका, नैया।
कीर- तोता, सुग्गा, सुआ, शुक।
कुंभ- घड़ा, गागर, घट, कलश।
कुसुम- पुष्प, फूल, प्रसून, पुहुप।
कृश- दुबला, क्षीणकाय, कमजोर, दुर्बल, कृशकाय।
कृषि- किसानी, खेतीबाड़ी, काश्तकारी।
केतन- ध्वज, झंडा, पताका, परचम।
केवट- मल्लाह, माँझी, खेवैया, नाविक।
केसरी- शेर, सिंह, नाहर, वनराज, मृगराज, मृगेंद्र।
कोकिल- कोकिला, कोयल, पिक, श्यामा।
कोविद- विद्वान, पंडित, विशारद।
कुद्ध- नाराज, कुपित, क्रोधित, क्रोधी।
क्रूर- बेरहम, बेदर्द, बेदर्दी, बर्बर।
क्षिप्र- तीव्र, तेज, द्रुत, शीघ्र, तुरंत।
क्षीण- कमजोर, कृश, दुर्बल, अशक्त।
क्षीर- दूध, गोरस, दुग्ध।
कीर्ति- यश, ख्याति, प्रतिष्ठा, शोहरत, प्रसिद्धि।

पर्यायवाच शब्दों – (ख ) 

खाना- भोज्य सामग्री, खाद्यय वस्तु, आहार, भोजन।
खग- पक्षी, द्विज, विहग, नभचर, अण्डज, शकुनि, पखेरू।
खंभा- स्तूप, स्तम्भ, खंभ।
खंड- अंश, भाग, हिस्सा, टुकड़ा।
खटमल- मत्कुण, खटकीट, खटकीड़ा।
खद्योत- जुगनू, सोनकिरवा, पटबिजना, भगजोगिनी।
खर- गधा, गर्दभ, खोता, रासभ, वैशाखनंदन।
खरगोश- शशक, शशा, खरहा।
खल- दुष्ट, बदमाश, दुर्जन, गुंडा।
खलक- दुनिया, जगत, जग, विश्व, जहान।
खादिम- नौकर, चाकर, भृत्य, अनुचर।
खाविंद- पति, मियाँ, भर्तार, बालम, साजन, सैयाँ।
खिल्ली- मखौल, ठिठोली, उपहास।
खुदगर्ज- स्वार्थी, मतलबी, स्वार्थपरायण।
खुदा- राम, रहीम, रहमान, अल्लाह, परवरदिगार।
खौफ- डर, भय, दहशत, भीति।
खून- रक्त, लहू, शोणित, रुधिर।
खंडन करना- खंड-खंड करना, टुकड़े-टुकड़े करना, विभक्त करना, विभाजित करना, अमान्य करना, गलत ठहराना, असत्य सिद्ध करना, रद्द करना, झूठा साबित करना, अप्रमाणित करना।
खखारना- कफोत्सारण करना, बलगम निकालना, खाँसना।
खजाना- कोष, निधान, निधि, कोषाकार, संग्रह, भंडार, गोदाम, अजायबघर।
खटका- आशंका, चिंता, फिक्र, अनिश्चय, अविश्वास, द्विविधा, अनिर्णय, सन्देह, संदिग्धावस्था, संदेहावस्था, खतरा, डर, भय।
खट्टा- अम्ल, तुर्श, चुक्क।
खत- पत्र, चिट्ठी, पाती, रेखा, लकीर।
खतरनाक- संकटजनक, भयावह, जोखिम का, डरावना, खौफनाक, भयानक, आशंकाप्रद।
खतरा- भय, डर, खौफ, आशंका, खटका, अंदेशा।
खतरे में डालना- आपत्ति में छोड़ना, संकट में डालना, विपत्ति में डालना, जोखिम में डालना, आपदग्रस्त करना, विपदा में डालना, विपन्न करना।
खबर- समाचार, हालचाल, वृतांत, संदेश, सूचना, जानकारी, संदेशा, पता, खोज, सुधि, चेत, चेतना, संज्ञा, होश।
खबरदार- सतर्क, सावधान, सजग, जागरूक, होशियार, चौकन्ना, सचेत।
खबर देना- सूचना देना, अवगत कराना, सूचित करना, जानकारी देना, इत्तला करना, समाचार कहना, हाल बताना, आगाह करना।
खरगोश- शश, शशक, खरहा।
खरा- अच्छा, बढ़िया, निर्दोष, शुद्ध, स्वच्छ, निर्मल, निःसंकोची, निष्कपट, ईमानदार, बेलाग, सच्चा।
खराबी- दोष, अवगुण, बुराई, अधम, खोटा, गंदा, घटिया, बेकार, सड़ियल।
खरोंच- कटाव, निशान, दरार, भंग।
खर्च- व्यय, खपत, इस्तेमाल, उपयोग।
खल- नीच, दुष्ट, धोखेबाज, छली, कपटी, दुर्जन, विश्वासघात, चुगलखोर, निर्लज्ज, कमीना।
खलबली- हलचल, शोर, हल्ला, कुहराम, हंगामा, शोर-शराबा, व्याकुलता, आकुलता, व्यग्रता, कुलबुलाहट, उद्विग्नता, अशांति, घबराहट।
खाद्य- भक्ष्य, आहार्य, खुराक, भोजन, भोज्य साम्रगी, आहार।
खामोश- चुप, मौन, शांत, मूक, अनुच्चरित, ध्वनिरहित, नीरव, निशब्द, निरुत्तर, स्वरहीन, निस्तब्ध।
ख़ामोशी- मौन, चुप्पी, मूकता, निशब्दता, नीरवता।
खाल- चाम, चमड़ा, त्वचा, चर्म, चमड़ी, खल्ल, चमरू, चर्मिका।
खाली- रिक्त, रीता, खोखला, असार, छूछा, सूना, निस्सार, रहित, विहीन, केवल, कोरा, सादा, सिर्फ।
खालीपन- शून्यता, शून्यगर्भता, नीरवता, निर्जनता, रिक्क्ता, निस्तब्धता, खोखलापन।
खास- विशेष, मुख्य, प्रधान, निजी, आत्मीय, प्रिया, शुद्ध-विशुद्ध, खालिस।
खिन्न- व्यथित, चिंतित, विकल, व्यग्र, व्याकुल, आकुल, दुःखी, उदास, निरानंद, विषण्ण, म्लान, अन्यमनस्क, अप्रसन्न।
खीझ- चिढ, कुढ़न, झुँझलाहट, झल्लाहट, रोष।
खीझना- झुँझलाना, ठुनकना, झल्लाना, चिढ़ना।
खुश- सानंद, हर्षोत्फुल्ल, हर्षजनक, हर्षित, आनंदित, आनंद।
खुशबूदार- सुवासित, सुगंधित, सुरभित, सुगंधपूर्ण।
खुशामद करना- चाटुकारिता करना- चापलूसी करना, झूठी तारीफ करना, तलवे चाटना, मक्खन लगाना।
खूँखार- क्रूर, निर्दय, निर्मम, जालिम, भयानक, भयंकर, भयावह, दारुण, डरावना, रौद्र, खूनी, हिंसक, घातक, जानलेवा, प्राणघातक।
खूँटी- मेख, टंगनी, कील।
खूनी- रक्तपिपासु, हत्यारा, कातिल, हिंसक।
खूबसूरती- लावण्य, मनोहरता, सुन्दरता, रमणीयता, चारुता, सौंदर्य, सुगठन, कांति, शोभा, श्री, मनोज्ञता।
खेती- कृषि, कृषिकर्म, किसानी, काश्तकारी, काश्त, कृषिकार्य, खेतीबाड़ी।
खेद- ग्लानि, दुःख, रंज, शोक, मनोव्यथा, अनुताप, कचोट, संताप, अफ़सोस, मलाल, रंज।
खोज- तलाश, अनुसंधान, अविष्कार, अन्वेषणा, जाँच-पड़ताल, अन्वेषण, शोध, अन्वीक्षण, छानबीन, तफतीश, तहकीकात।
खोजना- मालूम करना, ढूँढ निकालना, टोह लेना, पता लगाना, ढूँढना, जाँच-पड़ताल करना, गवेषणा करना, छानबीन करना, अनुसंधान करना, अन्वेषण करना, तलाश करना, पूछताछ करना, तफतीश करना, तहकीकात करना।
खोजने वाला- अनुसंधानकर्त्ता, अन्वेषणकर्त्ता, अन्वेषक, पता लगाने वाला, तलाश करने वाला।
खोटा- अशुद्ध, मिलावटी, दूषित, विकृत, झूठा, नकली, बनावटी, अनुचित, खराब, बुरा।
ख्याल- ध्यान, विचार भाव, सम्मति, आदर, लिहाज, सम्मान, मनोवृति, ध्यान।

पर्यायवाच शब्दों – (ग)

गणेश- विनायक, गजानन, गौरीनंदन, मूषकवाहन, गजवदन, विघ्रनाशक, भवानीनन्दन, विघ्रराज, मोदकप्रिय, मोददाता, गणपति, गणनायक, शंकरसुवन, लम्बोदर, महाकाय, एकदन्त।
गंगा- देवनदी, मंदाकिनी, भगीरथी, विश्नुपगा, देवपगा, ध्रुवनंदा, सुरसरिता, देवनदी, जाह्नवी, सुरसरि, अमरतरंगिनी, विष्णुपदी, नदीश्वरी, त्रिपथगा।
गज- हाथी, हस्ती, मतंग, कूम्भा, मदकल ।
गाय- गौ, धेनु, सुरभि, भद्रा, दोग्धी, रोहिणी।
गृह- घर, सदन, गेह, भवन, धाम, निकेतन, निवास, आगार, आयतन, आलय, आवास, निलय, मंदिर।
गर्मी- ताप, ग्रीष्म, ऊष्मा, गरमी, निदाघ।
गुरु- शिक्षक, आचार्य, उपाध्याय।
गणेश- विनायक, गणपति, लंबोदर, गजानन्।
गंगा- भगीरथी, मंदाकिनी,सुरसरिता, देवनदी, जाहनवी।
गरुड़- खगेश, पत्रगारि, उरगारि, हरियान, वातनेय, खगपति, सुपर्ण, विषमुख।
गँवार- अशिष्ट, असभ्य, उजड्ड।
गऊ- गैया, गाय, धेनु।
गगन- आसमान, आकाश, नभ, व्योम, अंतरिक्ष।
गज- हाथी, गय, गयंद, गजेंद्र, मतंग, मराल, फील।
गजानन- गणेश, एकदंत, विनायक, विनायक, विघ्नेश, लंबोदर।
गन्ना- ईख, इक्षु, उक्षु, ऊख।
गरदन- गला, कंठ, ग्रीवा, गलई।
गल्ला- अन्न, अनाज, फसल, खाद्यान्न।
गाँव- ग्राम, देहात, खेड़ा, पुरवा, टोला।
गाथा- कथा, कहानी, किस्सा, दास्तान।
गाना- गान, गीत, नगमा, तराना।
गाफिल- बेखबर, बेपरवाह, असावधान।
गिरि- पहाड़, मेरु, शैल, महीधर, धराधर, भूधर।
गिरिराज- हिमालय, पर्वतराज, पर्वतेश्वर, शैलेंद्र, गिरीश, गिरींद्र।
गीदड़- श्रृंगाल, सियार, जंबुक, निशामृग, डरपोक, बुझदिल।
गुनाह- अपराध, कसूर, खता, दोष।
गुलामी- दासता, परतंत्रता, परवशता।
गेहूँ- कनक, गोधूम, गंदुम।
गोद- अंक, क्रोड़, गोदी।
गोधूलि- साँझ, संध्या, शाम, सायंकाल।
ग्रामीण- ग्राम्य, ग्रामवासी, देहाती।
ग्राह- मगरमच्छ, घड़ियाल, मगर, झषराज।
गदहा- खर, गर्दभ, धूसर, रासभ, बेशर, चक्रीवान, वैशाखनन्दन।
गंदा- मैला, मलिन, अस्वच्छ, गँदला, अपरिष्कृत, कलुषित, बुरा, अशुद्ध, खराब, घृणित, घिनौना, गलीज, फूहड़, कुत्सित, वीभत्स, भ्रष्ट, अशिष्ट, अश्लील।
गंधर्व- देवजन, सुरगायक, विद्याधर, दिव्यगायक, किन्नर।
गंभीर- अथाह, गहरा, अतल, घना, गहन, सघन, भारी, विकट, घोर, भावसंयमी, भावगोप्ता, संयत, धीर, शांत, सरल, अप्रदर्शनशील, गूढ़, जटिल, कठिन, दुर्गम, दुर्भेद्य, दुरुह।
गजब- आश्चर्य, कमाल, अजूबा, क्रोध, गुस्सा, रोष, कोप, विपत्ति, आपत्ति, संकट, अन्याय, जुल्म, अंधेर, अनर्थ, अनिष्ट।
गण- झुंड, समूह, समुदाय, जत्था, कबीला, श्रेणी, जाति, कोटि, वर्ग, सेवक, दूत, अनुचर, अनुयायी।
गणना- हिसाब-किताब, जनगणना, आकलन, गिनती, संख्या।
गति- चाल, वेग, रफ़्तार, गमन, हरकत, स्पंदन, दशा, अवस्था, हाल, हालत, स्थिति, माया, लीला।
गतिशील- चल, अस्थिर, चलनशील, चलंत, चलता-फिरता, गतिमान।
गदर- हलचल, खलबली, उपद्रव, बलवा, विद्रोह, बगावत, क्रांति।
गरदन- ग्रीवा, गला।
गरम- उष्ण, तप्त, तपित, प्रचण्ड, तीक्ष्ण, उग्र, कुद्ध, क्रोधी।
गरीब- निर्धन, दरिद्र, दीन, दीनहीन, कंगाल, मुफ़लिस, अभावग्रस्त।
गर्भ- भ्रूण, गर्भपिण्ड, अर्भ, अर्भक।
गर्म- उष्ण, उत्तप्त, तप्त, ज्वलंत।
गर्व- गौरव, नाज, फ़ख, अभिमान, घमंड।
गवाही- अभिसाक्ष्य, मौखिक, साक्ष्य, मुखसाक्ष्य, प्रतिज्ञान, प्रमाणित कथन, शब्द-प्रमाण, शपथपूर्वक घोषणा, प्रत्यादर्शी, साक्षी।
गहन- अभेद्य, दुर्गम, घना, निविड़, सघन, गंभीर, गहरा।
गाड़ी- शकट, सवारी, वाहक, यान, वाहन, बैलगाड़ी।
गायत्री- वेदमाता, सावित्री, ब्राह्मीसरस्वती।
गायब- ओझल, अदृश्य, अंतर्धान, तिरोहित, लुप्त, विलुप्त, विलीन, छूमंतर, रफूचक्कर, नौ दो ग्यारह, अविद्यमान, गुम, लापता।
गाली- अपशब्द, दुर्वचन, अशिष्ट-उक्ति, अश्लील कथन, गाली-गलौज, अपभाषा, कुत्सित भाषा, बदजबानी।
गिड़गिड़ाना- अनुनय करना, विनय करना, विनती करना, निवेदन करना, मिन्नत करना, प्रार्थना करना, याचना करना, अभ्यर्थना करना, घिघियाना।
गिनती- गणन, गणना, लेखा, हिसाब।
गिरना- पतित होना, स्खलित होना, फिसलना-फिसलाना, नीचे आ जाना, कमी आना, घटना, गिरावट आना, पतन, लुढ़कना।
गिरवी रखना- बंधक रखना, रेहन रखना।
गिरावट- अपकर्ष, अधःपात, पतन, अधः पतन, अपकर्षण।
गीला- आर्द्र, अशुष्क, सिक्त, तर, नम, भीगा।
गुंजाइश- स्थान, जगह, अवकाश, सुभीता, समाई, सहूलियत।
गुंडा- लुच्चा, लफ़ंगा, बदमाश, आवारा, उपद्रवकारी, शोहदा, आततायी, कलहकारी, अत्याचारी, आतंकी, उद्दंड, दुष्ट।
गुड़िया- पुत्रिका, पुत्तलिका, पांचालिका, पुतली।
गुण- विशेषता, खूबी, योग्यता, निपुणता, प्रवीणता, काबिलियत।
गुणगान करना- वंदना करना, स्तुति करना, स्तवन करना, कीर्तन करना, यशोगान करना।
गुणी- गुणवान, गुण संपन्न, निष्णात, प्रवीण, पारंगत, योग्य, लायक, हुनरमंद।
गुदगुदाना- सहलाना, खुजलाना, सिहरा देना, पुलकित कर देना।
गुप्त- छिपा हुआ, अप्रत्यक्ष, परोक्ष, अप्रकट, गोपित, गूढ़, प्रच्छन्न, अंतर्निहित, गूढ़, कठिन, जटिल।
गुप्तचर- चर, खुफिया, जासूस, भेदिया।
गुमराह- भ्रांत, विभ्रांत, विपथगामी, पथभ्रष्ट, मार्गच्युत, भूलाभटका।
गुमसुम- चुप, खोया-खोया, अन्यमनस्क, आत्मविस्मृत, आत्मविभोर।
गुलछर्रे उड़ाना- आमोद-प्रमोद करना, ख़ुशी मनाना।
गुलाम- दास, सेवक, नौकर, अनुचर, परतंत्र, पराधीन, परवश।
गूँगा- मूक, आवाक, मौन, चुप, नीरव, वाणीहीन, बेजबान।
गूँज- प्रतिनिनाद, निनाद, प्रतिनाद, प्रतिध्वनि।
गूँजना- ध्वनि, निकालना, कूंजना, प्रतिध्वनित होना।
गूढ़- गुप्त, अप्रकट, अज्ञात, अदृश्य, अदृष्ट, अस्पष्ट, प्रच्छन्न, गोपनीय, अप्रकाशित, जटिल, दुरुह, दुर्बोध, रहस्यमय, गहन, गंभीर, गूढ़ार्थ, रहस्यपूर्ण, पेचीदा, सांकेतिक, क्लिष्ट।
गोप- गोरक्षक, अहीर, ग्वाला गोपालक।
गोबरगणेश- मूर्ख, अनाड़ी, बेवकूफ, जड़।
गोरा- गौर, धवल, श्वेतपूर्ण, हिमवर्ण।
गौण- अप्रसांगिक, अप्रधान, अप्रमुख, सहायक।
गौतमबुद्ध- शाक्यसिंह, गौतम, मायासुत, शाक्यमुनि, मारजित्, लोकजित्।
गौरव- स्वाभिमान, गर्व, घमंड, बड़प्पन, महत्त्व, गुरुता, गुरुत्व, इज्जत, सम्मान, उत्कर्ष, उन्नति, गंभीरता, गहनता, कीर्ति।
ग्वालिन- अहिरिन, गोपी, गोपवधू।

पर्यायवाच शब्दों – (घ )

घट- घड़ा, कलश, कुम्भ, निप।
घर- आलय, आवास, गेह, गृह, निकेतन, निलय, निवास, भवन, वास, वास-स्थान, शाला, सदन।
घृत- घी, अमृत, नवनीत।
घटना- हादसा, वारदात, वाक्या।
घन- मेघ, बादल, घटा, अंबुद, अंबुधर।
घना- घन, सघन, घनीभूत, घनघोर, गझिन, घनिष्ठ, गहरा, अविरल।
घपला- गड़बड़ी, गोलमाल, घोटाला।
घमंड- दंभ, दर्प, गर्व, गरूर, गुमान, अभिमान, अहंकार।
घुड़सवार- अश्वारोही, तुरंगी, तुरंगारूढ़।
घुमक्कड़- भ्रमणशील, पर्यटक, यायावर।
घूँस- घूस, रिश्वत, उत्कोच।
घोड़ा- तुरंग, हय, घोट, घोटक, अश्व।
घटक- कलश, घड़ा, कुम्भ, संघटक, कारक, तत्व, अवयव, अंग, उपांश, भाग, उपादान।
घटना- वाकया, माजरा, मामला।
घटाना- कम करना, न्यून करना, हलका करना, अल्पीकरण, अवशमन करना।
घटिया- हेय, हीन, हलका, निकृष्ट, कुत्सित, गर्हित, अपकृष्ट, ओछा, तुच्छ, अधम नीच, खोटा।
घबड़ा देना- अवाक् कर देना, व्याकुल कर देना, आकुल करना, व्यग्र करना, चौंका देना, उलझन में डालना, चकरा देना।
घबराना- हड़बड़ाना, उतावला होना, अधीर होना, अकुलाना, विचलित होना, चलायमान होना, हैरान होना, परेशान होना, अशांत होना।
घबराहट- आकुलता, व्याकुलता, विमूढ़ता, अधीरता, क्षोभ, हड़बड़ी, परेशानी, आतुरता, खलबली, हैरानी, बेचैनी, विक्षिप्ति।
घरेलू- हिला-मिला हुआ, सधा हुआ, पला हुआ, पालतू।
घाट- भरणतट, घट्ट, नदीतट अवस्थानतट।
घाटा- हानि, टोटा, नुकसान।
घातक सांहातिक- प्राणनाशक, प्राणांतक, मारक, विनाशक, विषैला, विनाशकारी, मारू, जानलेवा, मृत्युजनक।
घायल- जख्मी, आहत, क्षत-विक्षत।
घाव- जख्म, व्रण, क्षत, चोट, चीरा।
घिनौना- घृण्य, घृणोत्पादक, घृणास्पद, तिरस्करणीय, घृणाजनक, फूहड़, भद्दा, भोंडा, नफ़रत, अरुचि, चिढ, अरुचिकर, अप्रिय।
घुटना- ठेघुँना, घुटिक, साँस रुकना।
घुमाना- चक्कर देना, फेरा देना, नचाना, गोलाई में चलाना, सैर कराना, टहलाना, भ्रमण कराना, रमाना, विचरण कराना।
घुसना- प्रवेश करना, पैठना, अन्दर जाना, दाखिल होना, भेदन करना, चुभना, आरपार होना।
घूँघट- मुखावरण, पर्दा, नकाब, अवगुंठन, बुर्का।
घूँसा- मुष्टिक, मुष्टिका, मुक्का।
घूस- रिश्वत, उत्कोच, चाँदी का जूता, बड़ा चूहा।
घृणा- नफ़रत, घिन, जुगुप्सा, अरुचि, कुत्सा, विराग, अप्रीति, चिढ़ विरक्ति, विमुखता, ऊब।
घृणाजनक- घृणात्मक, घनौना वितृष्णाजनक, कुत्सित, विरक्तिकर, वमनोत्पादक, अप्रीतिकर अप्रिय।
घृणापूर्ण- अवज्ञासूचक, तिरस्कारी, घृणित, तिरस्कारपूर्ण, अवमानी, अवहेलनात्मक।
घृणित- हेय, तुच्छ, नगण्य, हीन, नीच, बुरा, खराब, निंद्य, तिरस्करणीय, तिरस्कृत।
घेरा- मंडल, वलय, वृत्त, चक्र, परिधि, क्षेत्र, दायरा, सीमा, मर्यादा।
घोड़ी- अश्वा, घोटिका।
घोर- विकराल, भीषण, भयंकर, भयानक, डरावना, उग्र, दारुण, तीव्र, अतिशय, अधिक, अत्यधिक, प्रचुर, बहुत।
घोषणा- उद्घोषण, ऐलान, सूचना, विज्ञप्ति, अधिसूचना, डुग्गी।
घोषणा-पत्र- ज्ञापन-पत्र, नीति-घोषपत्र, घोष-पत्र, मैनिफैस्टो।
घास- तृण, दूर्वा, दूब, कुश, शाद।

पर्यायवाच शब्दों – (च)

चन्द्र- चाँद, सुधांशु, सुधाधर, राकेश, सारंग, निशाकर, निशापति, रजनीपति, मृगांक, कलानिधि, हिमांशु, इंदु, सुधाकर, विधु, शशि, चंद्रमा, तारापति।
चंद्रमा- चाँद, हिमांशु, इंदु, सुधांशु, विधु, तारापति, चन्द्र, शशि, कलाधर, निशाकर, मृगांक, राकापति, हिमकर, राकेश, रजनीश, निशानाथ, सोम, मयंक, सारंग, सुधाकर, कलानिधि।
चरण- पद, पग, पाँव, पैर, पाद।
चतुर- विज्ञ, निपुण, नागर, पटु, कुशल, दक्ष, प्रवीण, योग्य।
चोर- तस्कर, दस्यु, रजनीचर, मोषक, कुम्भिल, खनक, साहसिक।
चाँदनी- चन्द्रिका, कौमुदी, ज्योत्स्ना, चन्द्रमरीचि, उजियारी, चन्द्रप्रभा, जुन्हाई।
चाँदी- रजत, सौध, रूपा, रूपक, रौप्य, चन्द्रहास।
चन्द्रिका- चाँदनी, ज्योत्स्ना, कौमुदी।
चंट- चालाक, घाघ, काइयाँ।
चंडी- दुर्गा, अंबा, काली, कालिका, जगदंबिका, भगवती।
चंदन- गंधराज, गंधसार, मलयज।
चंद्रशेखर- महादेव, शिव, शंभु, शंकर, महेश्वर, नीलकंठ, आशुतोष।
चक्षु- नैन, आँख, दीदा, लोचन, नेत्र, नयन।
चतुरानन- विधाता, ब्रह्मा, सृष्टा, सृष्टिकर्ता।
चना- चणक, रहिला, छोला।
चर्मकार- मोची, चमार, पादुकाकार।
चारबाग- बाग, बगीचा, उपवन, उद्यान।
चारु- कमनीय, मनोहर, आकर्षक, खूबसूरत।
चावल- तंदुल, धान, भात।
चिट्ठी- पत्र, पाती, खत।
चिराग- दीया, दीपक, दीप, शमा।
चूहा- मूसा, मूषक, मुसटा, उंदुर।
चेरी- दासी, सेविका, बाँदी, नौकरानी, अनुचरी।
चेला- शागिर्द, शिष्य, विद्यार्थी।
चेहरा- शक्ल, आनन, मुख, मुखड़ा।
चोरी- स्तेय, चौर्य, मोष, प्रमोष।
चौकन्ना- सचेत, सजग, सावधान, जागरूक, चौकस।
चौकीदार- प्रहरी, पहरेदार, रखवाला।
चौमासा- वर्षाकाल, वर्षाऋतु, बरसात।
चंचल- उतावला, डाँवाडोल, क्षणिक, पलायनशील, परिवर्तनशील, अस्थिर, अधीर, अशांत, चुलबुला, नटखट, चपल, अगंभीर, अवज्ञापूर्ण, अलमस्त।
चकराना- चक्कर खाना, सिर घूमना, घूमना, फिरना, घूमता-सा दिखाई देना।
चकोर- जिवाजिव, ज्योत्स्नाप्रिय, मनाल, जीवंजीव, जलचंचु, चंद्रिकायायी, सुलोचन।
चक्र- पहिया, चक्की, फेरा, चक्कर, भँवर, घूर्णन, आवर्त, घुमाव, फेर, घूम, बल, पदक, मेडल।
चढ़ना- अधिरोहण करना, आरोहण करना, सवार होना, सवारी करना, उदय होना, ऊपर उठना, ऊपर होना।
चढ़ाव- आरोहण, आरोहन, प्ररोहण, आरोह।
चमक- प्रकाश, ज्योति, रोशनी, दमक, प्रभा, झलक, झलमल, चमक-दमक, रौनक, जगमगाहट।
चमकीला- आभामय, उज्ज्वल, चमकदार, प्रकाशमान, चटकीला, भड़कदार, आलोकित, अमिताभ।
चमत्कार- करिश्मा, करामात, करतब, तिलस्म।
चरित्र- चाल-चलन, चलन स्वभाव, व्यवहार, आचरण, करनी, शील, सदाचार, आचार।
चरित्रहीन- चरित्रभ्रष्ट, दुश्चरित्र, अनैतिक, दुराचारी, कामुक, व्यभिचारी, व्यसनी, बदचलन, अधम, अवारा।
चर्चा- वर्णन, विवेचन, जिक्र, बयान, वार्तालाप, बातचीत, अफवाह।
चलना- गमन करना, आगे बढ़ना, पधारना, पदार्पण करना, बढ़ना, प्रस्थान करना, निकलना, जाना।
चश्मा- सोता, स्रोत, झरना, ऐनक।
चहल- आनंदोत्सव, धूमधाम, चहल-पहल, रौनक।
चांडाल- अंत्यज, श्वपच, शुद्र, अस्पृश्य, अछूत, श्वपाक, नीच, पतित।
चाटुकारी- चापलूसी, अनुनय, खुशामद, लल्लोचप्पो।
चापलूस- चाटुकार, खुशामदी, प्रियवदी, मिठबोला, पराश्रमी, मक्खनबाज, चमचा, परजीवी, अत्यनुरोधी।
चाबुक- कषा, कश, बेंत, सोंटा, चमोटी।
चाल- गति, वेग, रफ़्तार, आचरण, चाल-ढाल, बनावट, रीति, रस्म, प्रथा, ढंग, प्रकार, चालाकी, चतुराई।
चाल- चलन-समानुष्ठान, अनुचेष्ठा, चेष्टा, आचरण, गतिविधि, व्यवहार, बर्ताव, शिष्टाचार, सदाचार।
चाह- प्रेम, प्रीति, अनुराग, इच्छा, कामना, अभिलाषा, अरमान, ललक, मनोरथ, आवश्यकता, जरूरत, मांग, रहस्य, गुप्त भेद।
चिन्ता- ध्यान, फिक्र, सोच, ऊहापोह, परवाह, विचार, उद्विग्नता, अधीरता, रंज, दुःख, शोक व्यथा।
चिकना- स्निग्ध, तैलाक्त, तेलिया, रोगनी, स्नेहिल, निर्जज्ज, बेशर्म, बेहया।
चिकित्सा- उपचार, इलाज, दवादारू।
चिकित्सालय- अस्पताल, दवाखाना, शफाखाना, औषधालय।
चिड़चिड़ा- तुनुक-मिजाज, बिगड़ैल, बदमिजाज।
चिढ़ना- कुढ़ना, खीझना, चिड़चिड़ाना, झल्लाना, अप्रसन्न होना।
चितकबरा- कबरा, चितला, शबल, रंजित, चित्रक, नानावर्ण, बहुवर्णी, बहुरंगी, चित्र-विचित्र।
चिन्ह- लक्षण, निशान, छाप, पहचान, संकेत, प्रतीक, सूचक, द्योतक।
चीख- क्रंदन, आक्रंदन, कर्कशनाद, चीत्कार, चिल्लाहट, कूक।
चीज- पदार्थ, वस्तु, द्रव्य।
चीनी- शर्करा, शक़्कर, खांड।
चीरफाड़- शस्त्र कर्म, शस्त्र क्रिया, शस्त्रोपचार, शल्यकर्म, शल्योपचार, अस्त्रचिकित्सा।
चुंगी- उत्पादन कर, पथकर, सीमाकर, सीमाशुल्क, उत्पादशुल्क, उत्पादकर, सरकारी महसूल, शुल्क।
चुकौती- निस्तार, निस्तारण, भुगतान, ऋणमुक्ति, ऋणमोचन, ऋण भुगतान।
चुगली- परिवाद, प्रवाद, कुत्सा, निंदा, द्वेषपूर्ण, चुगलखोरी।
चुप- मौन, अवाक्, चुपचाप, खामोश, निशब्द, शांत, गुमसुम, नीरव।
चूँकि- कारण यह है कि, क्योंकि, यह देखते हुए कि, जबकि, इसलिए कि।
चूड़ी- कंकण, कंगन, कंगना, चूड़ा।
चेतना- चेत, होश, ज्ञान, मनोज्ञान, संज्ञा, सुधबुध, बोध, विचारना, समझना, सावधान होना।
चोर- तस्कर, गिरहकट, उठाइगीर, कजाक, चोट्टा, उचक्का, जेबकतरा, निशाचर, रजनीचर।
चोली- अंगिया, कंचुकी, अंगरखा, वक्षरक्षिका, वक्षावरण।
चौंध- झलक, झपक, चमक, झिलमिलाहट।
चौक- आँगन, सेहन, चबूतरा, चौहट्टा।
चौकसी- निगरानी, निगहबानी, सावधानी, होशियारी सजगता, सर्तकता।
चोटी- मूर्धा, शीश, सानु, शृंग।

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8 9

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *