15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर भाषण

15 august par speech in hindi

Short Speech on independence day for School Students in HIndi Language

स्वतंत्रता दिवस पर भाषण : SPEECH – 2 [300 word]

सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ। मैं आज आपके सामने अपना स्वतंत्रता दिवस भाषण देने के लिए खड़ा हूं। सबसे पहले मैं हमारे सम्मानित प्राचार्य महोदय, (Principal sir) मुख्य अतिथि हमारे शिक्षकों और छात्रों को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएँ देना चाहता हूँ।

स्वतंत्रता मुफ्त नहीं होती । हर पीढ़ी को स्वतंत्रता के लिए अपने दम पर लड़ना पड़ता है। महात्मा ने हर ब्रिटिश शासन और कानून को उन चुनौतियों के समाधान के रूप में तोड़ दिया, जो भारतीयों के सामने था।हीन मनोवृत्ति और  हीन मन के साथ हम अपनी अगली पीढ़ी के लिए क्या दे सकते हैं? सोचिए !!

आज 15 अगस्त को हम सभी अपने राष्ट्र के स्वतंत्रता दिवस को मनाने के लिए यहां एकत्रित हुए हैं।आज का दिन सभी भारतीय नागरिकों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।हमें अंग्रेजों से आजादी मिली जिन्होंने 15 अगस्त 1947 को लगभग 200 वर्षों तक हमारे देश पर शासन किया।

गांधी जी, पंडित जवाहरलाल नेहरू, लोकमान्य तिलक, सरदार वल्लभभाई पटेल जैसे महान स्वतंत्रता सेनानियों ने हमारे देश की स्वतंत्रता के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया।भगत सिंह, सुखदेव राजगुरु जैसी कई बहादुर हस्तियों ने देश की आजादी के लिए अपना बलिदान दिया।

एक शांतिपूर्ण जीवन जो हम आज जी रहे हैं वह सिर्फ उनके बलिदानों के कारण ही प्राप्त हुई है। हम भाग्यशाली हैं क्यों  कि हमारे पूर्वजों ने हमारे लिए लड़ाई लड़ी और हमें शांति का देश दिया। स्वतंत्रता के बाद हमें अपने मौलिक अधिकार (फंडामेंटल राइट्स) मिले। आज हमें अपनी सरकार चुनने का अधिकार है।

हम सभी सौभाग्यशाली हैं क्यों  कि हमने एक स्वतंत्र भारत में जन्म लिया लेकिन हम अपनी स्वतंत्रता को सरल तरीके से  नहीं  मान  सकते।हम सभी को अपने देश के विकास में योगदान देना चाहिए ताकि कोई भी देश हमारे ऊपर फिर से शासन करने की कल्पना न कर सके।

हमारी स्वतंत्रता अमूल्य है। इसलिए यह हमारा कर्तव्य भी है कि हम देश के विकास और प्रगति के लिए कड़ी मेहनत करें।आइए हम सभी आज अपना सर्वश्रेष्ठ  प्रतिज्ञा करेंगे और अपने देश को दुनिया का सर्वश्रेष्ठ देश बनाने का संकल्प लेंगे।

आशा है आपको मेरा भाषण पसंद आया होगा। अंत में  इन्ही शब्दों के साथ मैं अपना भाषण समाप्त करता हूँ। धन्यवाद !

जय हिंद ! जय भारत !


15 August / independence Day Speech in Hindi for School Students 2020

स्वतंत्रता दिवस पर भाषण : SPEECH -1 [500 Word]

सभी को बहुत-बहुत शुभकामनाएं ….  माननीय प्रिंसिपल जी, मुख्य अथिति, सम्मानित शिक्षक, माता-पिता और मेरे प्यारे दोस्तों। मैं आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं। 

हम सभी इस महान दिन को शानदार तरीके से मनाने के लिए उत्साहित हैं। हम सभी सम्मानीय राष्ट्रीय झंडा  को फहराते हैं। फिर आजादी की लड़ाई के  हमारे सभी वीरों के कर्मों को सलाम करते हैं।

मैं एक भारतीय नागरिक होने पर गर्व महसूस कर रहा हूं। आज मुझे स्वतंत्रता दिवस पर भाषण देने का बड़ा अवसर मिला। मैं अपने सम्मानित शिक्षकों को धन्यवाद कहना चाहूंगा क्योंकि उन्होंने मुझे अपने विचार प्रकट करने का अवसर दिया है।

हम हर साल 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि 1947 में 14 अगस्त की रात  भारत को आजादी मिली थी।भारत की स्वतंत्रता के ठीक बाद जवाहरलाल नेहरू जी ने नई दिल्ली में स्वतंत्रता दिवस पर भाषण दिया था। जब दुनिया भर के लोग सो रहे थे, भारत में लोग ब्रिटिश शासन से स्वतंत्रता और जीवन पाने के लिए चल रहे थे।

स्वतंत्रता के बाद अब भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक (डेमोक्रटिक) देश बन गया है। हमारा देश “विविधता में एकता” कहने के लिए सबसे प्रसिद्ध देश है ।

यह अपने धर्मनिरपेक्षता (secularism) का परीक्षण करने वाली कई घटनाओं का सामना करता है, हालांकि भारतीय लोग हमेशा एकता के साथ जवाब देने के लिए तैयार हो जाते हैं। हमारे पूर्वजों के कठिन संघर्षों के कारण अब हम अपनी इच्छा के अनुसार स्वतंत्रता का आनंद ले पा रहे हैं। अंग्रेजों से आजादी पाना वास्तव में एक असंभव काम था लेकिन हमारे पूर्वजों कि  निरंतर प्रयासों से ऐसा संभव हो सका।

हम उनके कार्यों को कभी नहीं भुला सकते  और हमेशा उन्हें इतिहास के माध्यम से याद करते हैं। हम केवल एक दिन में स्वतंत्रता की लड़ाई के सभी कार्यों और वीरों  को याद नहीं कर सकते हैं, लेकिन  हम उन्हें हार्दिक सलामी दे सकते हैं। वे हमेशा हमारी यादों और प्रेरणा के रास्ते में रहेंगे।आज सभी भारतीयों के लिए बहुत महत्वपूर्ण दिन है

जिसे हम उन महान भारतीय नेताओं के बलिदान को याद करते हुए मनाते हैं।  जिन्होंने स्वतंत्रता और समृद्धि के लिए अपना जीवन दिये थे। सभी भारतीयों के सहयोग बलिदान और भागीदारी के कारण भारत की स्वतंत्रता संभव हो सकी थी। हमें सभी भारतीय नागरिकों को महत्व देना चाहिए और उन्हें सलाम करना चाहिए क्योंकि वे वास्तविक राष्ट्रीय विधर्मी हैं।

हमें धर्मनिरपेक्षता (secularism) में विश्वास रखना चाहिए और एकता को बनाए रखने के लिए कभी अलग नहीं होना चाहिए ताकि कोई भी फिर से हमारे शासन न तोड़ सके।

हमें कल के भारत के अत्यधिक जिम्मेदार और अच्छी तरह से शिक्षित नागरिक होने की शपथ लेनी चाहिए । हमें ईमानदारी से अपना कर्तव्य निभाना चाहिए और लक्ष्य पाने के लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए और इस लोकतांत्रिक(डेमोक्रटिक) राष्ट्र का सफलतापूर्वक नेतृत्व करना चाहिए।

हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि उन्होंने हमें आजादी दिलाने के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी। अब हम क्या हैं और हमारे पास क्या है यह सब हमारे पूर्वजों ने दिया है। अब हमें खुद से पूछना होगा कि हम अपनी आने वाली पीढ़ियों को क्या देने जा रहे हैं।

आशा है आपको मेरा भाषण पसंद आया होगा। अंत में  इन्ही शब्दों के साथ मैं अपना भाषण समाप्त करता हूँ। धन्यवाद!

जय हिंद ! जय भारत !


Best Speech on independence Day in Hindi For Students

स्वतंत्रता दिवस पर भाषण : SPEECH – 3 [700 word ]

मेरे सभी आदरणीय अधयापकों, अभिभावक, और प्यारे मित्रों को सुबह का नमस्कार। हम यहां अपना 73 स्वतंत्रता दिवस मनाने के लिए एकत्रित हुए हैं। हम सभी जानते हैं कि अंग्रेजों ने हमारे देश पर कैसे राज किया और हमें कैसे आज़ादी मिली।

हम इस दिन हमारे राष्ट्रीय झंडा को सलाम करते है। लेकिन इस विशेष दिन पर हमे हमारे महान नेताओं के शब्दों को याद करना चाहिए  जिन्होंने हर भारतीय जनों को प्रेरित किया । आइए हम अपने बापू के शब्दों से शुरू  करेंगे जिन्होंने शांति मार्ग को अपनाया। यह भाषण बापू ने क्वित इंडिया मूवमेंट  में दिया था।”यहाँ लघु मंत्र है जो मैं आपको देता हूँ,

आप इसे अपने दिलों पर अंकित कर लीजिए”। वह मंत्र है “करो या मरोहम या तो भारत को आज़ाद कर देंगे या इस प्रयास में मर जाएंगे लेकिन हम अपनी गुलामी के चरम को देखने के लिए जीवित नहीं रहेंगे।

यह आपकी प्रतिज्ञा होनी चाहिए। अब हम एक और महान नेता के भाषण पर आगे बढ़ते हैं वह है लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक, जिसने दुनिया को यह गर्जन करके बताया  कि “स्वतंत्रता मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है और मैं इसे प्राप्त करूंगा  कोई भी हथियार मेरी दृढ़ निश्चय को नहीं काट सकता, कोई भी आग इसे जला नहीं सकता, कोई पानी इसे गीला नहीं कर सकता, कोई हवा इसे सुखा नहीं सकती।

इस से हमे ये सीखना है की चाहे परिस्थिति कैसी भी हो लेकिन हमे हमारे दृढ़ निश्चय को नहीं छोड़ना है। नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वारा दिए गए भाषण पर आगे बढ़ेंगे उन्होंने कहा कि “दोस्तों! मुक्ति के युद्ध में मेरे साथी!आज , मैं आप से  खून की मांग करता हूं। यह अकेला रक्त ही  है जो दुश्मन से  बदला ले सकता है। यह अकेला रक्त ही  है जो स्वतंत्रता की कीमत चुका सकता है

हमारे चाचा जी जवाहरलाल नेहरू के शब्द,”आधी रात के समय, जब पूरी दुनिया नींद में होगी, तब भारत जीवन और स्वतंत्रता के लिए जागेगा। इन बातों से हमे ये जानने को मिलता कि समय जो भी हो लेकिन दिल में स्वतंत्रता कि आग हमेशा जलती रहनी चाहिए। इस गंभीर क्षण में हमें भारत की सेवा के लिए अपने आप को समर्पण करना है।

जब हम अपने नेताओं के इन शब्दों को पढ़ते या सुनते हैं तो हमें न केवल उनके  साहस याद आता है, बल्कि हम में आत्मविश्वास भी पैदा होती है। ये लोग ही नहीं ऐसे बहुत से नेता हैं जिन्होंने स्वतंत्रता के समय  हमारे पूर्वजों को प्रेरित किया। जब हम  स्वतंत्रता के बारे में कहते है तो हमें यह याद रखना बहुत जरूरी है कि स्वतंत्रता के कुछ संकेत हैं। 

आज मैं उन संकेतों  के बारे में बताना चाहूंगा । हमारे राष्ट्रीय झंडा के साथ शुरू करते हैं। झंडा मुक्त देश का प्रतीक है। जैसा कि नेहरू जी ने कहा था “झंडा सभी लोगों के लिए स्वतंत्रता का प्रतीक है”।यह स्वराज ध्वज पर आधारित पिंगली वेंकय्या जी द्वारा डिजाइन किया गया था। इसमें गहरा केसरिया रंग है जो राष्ट्र की ताकत को दर्शाता है।

बीच में सफेद रंग शांति और सच्चाई को इंगित करता है। इसमें नेवी ब्लू रंग के साथ धर्म चक्र है। वो दर्शाता है कि गति में जीवन है और गतिहीनता में मृत्यु है। हमें हमेशा बिना रुके आगे बढ़ना चाहिए। हरा रंग प्रजनन क्षमता को दर्शाता है। भूमि की वृद्धि और शुभता को इंगित करता है।

राष्ट्रीय गीत  हमारा राष्ट्रीय गीत वन्देमातरम है। यह 1882 में बंकिम चंद्रा चटर्जी द्वारा लिखा गया था।यह स्वतंत्रता संग्राम के दौरान हमारे भारतीयों के लिए सबसे बड़ी प्रेरणा दायक निनाद था।

राष्ट्रगान  हमारा राष्ट्रगान जनगणमन है। यह हमारे देश के प्रति देशभक्ति, गर्व और सम्मान को बढ़ाने के लिए गाया जाता है। यह पूरे देश को एकता और राष्ट्रवाद के एक सूत्र में बांधता है। यह हमारे महान नेताओं को श्रद्धांजलि देने का तरीका भी है। यह रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा लिखित और संगीतबद्ध किया गया था।

राष्ट्रीय प्रतिज्ञा हमारी राष्ट्रीय प्रतिज्ञा प्रतिबद्धता की शपथ है। यह शुरुआत में 1962 में पैडिमैरी वेंकट सुब्बाराव  जी द्वारा रचित थी। राष्ट्रीय प्रतिज्ञा राष्ट्रगान और राष्ट्रीय गीत के बराबर है।

राष्ट्रीय प्रतीक हमारे राष्ट्रीय प्रतीक में 4 सिंह शामिल हैं जो शक्ति, गर्व, साहस और आत्मविश्वास का प्रतीक है। प्रतीक के नीचे  यह लिखा होता  है  “सत्यमेव जयते”।  इसका मतलब है कि सच्चाई  का ही हमेशा जीत होती है।  भारत देश मानव जाति , मानव भाषण का जन्म स्थान है, इतिहास की जननी है। मुझे भारतीय होने पर गर्व है। मुझे हमारे राष्ट्र के बारे में बोलने में गर्व महसूस होता है। मैं अपने शिक्षकों को मुझे यह अवसर देने के लिए धन्यवाद देता हूं।  सभी को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं। धन्यवाद 

जय हिंद ! जय भारत !

Related Queries : 15 August , Swatantrata Divas, independence Day, Bhashan, Speech, Hindi, Pdf, Students, Class 1 12 Teachers

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *