रक्षा बंधन पर स्पीच (भाषण ) – Raksha Bandhan Speech

  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  
    1
    Share

Raksha Bandhan Speech in Hindi For Class 1-12 Students

रक्षा बंधन (राखी ) हिन्दू धर्म के प्रमुख त्यौहारों में से एक है जो पूरे भारत में उत्साह के साथ मनाया जाता हैं। इस त्योहार को राखी का त्योहार भी कहा जाता है। आज हम  इस आर्टिकल में इस अनमोल त्यौहार के बारे में जानेंगे।

यह रक्षा बंधन का त्यौहार श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है।पूरे भारत में इस दिन का माहौल देखने लायक होता हैं  और  होगी भी क्यों नहीं, यही तो एक ऐसा विशेष दिन है जो भाई बहन केलिए बना है।

रक्षा बंधन भाई बहन के पवित्र प्रेम का प्रतीक हैं। यूं कहे तो भारत में भाई बहनों  के बीच प्रेम और कर्तव्य कि भूमिका जताना किसी एक दिन कि मोहताज नहीं हैं। परन्तु रक्षा बंधन की ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व की वजह से ही यह दिन इतना महत्वपूर्ण बना गया।


रक्षा बंधन का इतिहास l 

STORY – 1

रक्षाबंधन की कहानियाँ हमारे देशके-पुराने धर्मग्रंथों में भी मिलती हैं । ऐसा कहा जाता है कि इस त्योहार ने चित्तौड़ की विधवा रानी रानी कर्णावती के बाद लोकप्रियता हासिल की, जब उनकी मदद के लिए मुगल सम्राट हुमायूं को राखी भेजी। इसी प्रकार श्रीकृष्ण और सुभद्रा की कथा, मेवाड़ की महारानी कर्णवती द्वारा हुमायूँ को राखी भेजे जाने की कथा इतिहास के पन्नों पर सुनहरे अक्षरों में अंकित है ।

STORY – 2

एक अन्य प्रसंग के अनुसार, राजा बलि ने इंद्रलोक पर आक्रमण करके सभी देवताओं को हरा दिया और इंद्र के सिंघासन पर कब्ज़ा कर लिया| तब इंद्रदेव की पत्नी ने भगवान् विष्णु की प्रार्थना की| भगवान विष्णु बौना वामन का अवतार लेकर राजा बलि के पास गए| राजा बलि संसार के सबसे बड़े दानी माने जाते थे  

बौना बामन के रूप में भगवान विष्णु ने बलि से तीन पग भूमि देने का वचन लिया| बौना बामन ने तीन पगों में ही धरती, आकाश और पाताल को नाप लिया| इसके बाद बौना बामन ने राजा बलि के सर पर पैर रखकर उन्हें रसातल में भेज दिया| रसातल में बलि ने भगवान विष्णु की कठोर उपासना की और विष्णु जी से वचन लिया कि वह सदैव उनके साथ ही रहें

इस वचन से माता लक्ष्मी परेशान हो गयीं क्यूंकि विष्णु जी आप सदैव बलि के साथ रहने लगे थे| तब माता लक्ष्मी ने राजा बलि की कलाई पर एक रक्षा सूत्र बांधा और उनसे एक उपहार माँगा| माँ लक्ष्मी ने उपहार में राजा बलि से भगवान् विष्णु को मांग लिया| यह श्रावण मास की पूर्णिमा का ही दिन था तब से रक्षाबंधन मनाने की प्रथा आरम्भ हो गयी l 

कैसे मनाया जाता है रक्षा बंधन ?

हिंदू तिथि-ग्रंथ के अनुसार, रक्षा बंधन श्रावण मास में पड़ता है, जिसे सावन माह कहा जाता है। यह श्रावण मास के सबसे हाल के दिन की प्रशंसा की जाती है जो आमतौर पर अगस्त की अवधि में आती है।
सावन का पूरा महीना हिंदू धर्म के अनुसार होनहार माना जाता है।
रक्षा बंधन की प्रशंसा दिन के समय की जाती है। भाई-बहन इस भक्ति दिवस की सराहना करने के लिए अद्भुत प्रकार के कपड़े पहनते हैं। बहनें भाई-बहन के माथे पर तिलक लगाती हैं, उनकी कलाई पर राखी बांधती हैं और मिठाइयां बांटती हैं।
इस रिवाज को करते हुए बहनें अपने भाई-बहनों की समृद्धि के लिए भगवान से अपील करती हैं। भाई-बहन अपनी बहनों को धीरज प्रदान करते हैं और वादा करते हैं कि वे उनके साथ रहेंगे और हर परिस्थिति में उनसे निपटेंगे। राखी बांधने से पहले दो भाई-बहन जल्दी देख लेते हैं। रिवाज पूरा होने के बाद वे बस खाते हैं।

Raksha Bandhan Speech in Marathi For Class 1-12 Students

रक्षाबंधन (राखी) हा हिंदू धर्मातील एक प्रमुख सण आहे जो संपूर्ण भारतभर उत्साहात साजरा केला जातो. या सणाला राखी उत्सव असेही म्हणतात. आज आपण या लेखात या अनमोल उत्सवाबद्दल शिकू.

हा रक्षाबंधन सण श्रावण महिन्याच्या पौर्णिमेच्या दिवशी साजरा केला जातो.आपल्या भारतातील या दिवसाचे वातावरण पाहण्यासारखे आहे, आणि का नाही, हा विशेष दिवस भावंडांसाठी बनविला जातो.

रक्षाबंधन हे भावंडांच्या प्रेमळपणाचे प्रतिक आहे. याप्रमाणे, भारतात भावंडांमध्ये प्रेम आणि कर्तव्याची भूमिका व्यक्त करण्याचा एक दिवस नाही. परंतु रक्षाबंधनाच्या ऐतिहासिक आणि धार्मिक महत्त्वमुळे हा दिवस इतका महत्वाचा ठरला.

रक्षाबंधनाचा इतिहास

कथा – 1

रक्षाबंधनाच्या कथा आपल्या देशातील पुरातन शास्त्रांमध्येही आढळतात. असे म्हटले जाते की चित्तूरची विधवा राणी कर्णावती यांनी जेव्हा मुघल बादशाह हुमायूनला तिच्या मदतीसाठी राखी पाठविली तेव्हा या महोत्सवाला लोकप्रियता मिळाली. त्याचप्रमाणे श्रीकृष्ण आणि सुभद्राची कथा, मेवाडच्या महारानी कर्णावती यांची कथा हुमायूंकडे राखी पाठवताना इतिहासाच्या पानांवर सोन्याच्या अक्षरे लिहिलेली आहेत.

कथा – 2

दुसर्‍या परिच्छेदानुसार, राजा बालीने इंद्रलोकावर आक्रमण करून सर्व देवतांचा पराभव केला आणि इंद्राची गादी जिंकली. त्यानंतर इंद्रदेव यांच्या पत्नीने भगवान विष्णूला प्रार्थना केली. भगवान विष्णूने बौने वामांचा अवतार घेतला आणि बळी राजाकडे गेला. राजा बाली हा जगाचा महान दाता मानला जात असे.

भगवान विष्णूने एका बौने बालाच्या रूपाने बलिदान देऊन तीन चरणांची जमीन देण्याचे व्रत केले. बौने बामनने तीन चरणांमध्ये पृथ्वी, आकाश आणि नरक मोजले. यानंतर, बटू बामनने राजा बळीच्या डोक्यावर पाय ठेवला आणि त्याला तळही खोल पाण्यात पाठवले. पाताळात, बळीने भगवान विष्णूची कठोरपणे पूजा केली आणि विष्णूला नेहमीच आपल्याबरोबर रहावे अशी शपथ वाहिली.

आई लक्ष्मी या आश्वासनामुळे अस्वस्थ झाली कारण विष्णूजी नेहमीच त्याग करून जगू लागले. तेव्हा देवी लक्ष्मीने राजा बळीच्या मनगटावर धागा बांधला आणि भेट मागितली. आई लक्ष्मीने भगवान बालीला राजा बालीकडे भेट मागितली. श्रावण महिन्याच्या पौर्णिमेच्या दिवशीच रक्षाबंधन साजरा करण्याची प्रथा सुरू झाली.

रक्षाबंधन कसे साजरे केले जाते ?

हिंदू तारखेच्या पुस्तकानुसार रक्षाबंधन श्रावण महिन्यात येते, ज्याला सावन महिना म्हणतात. श्रावण महिन्याच्या अगदी अलीकडील दिवशी ऑगस्टच्या कालावधीत त्याची प्रशंसा केली जाते.

सावनचा संपूर्ण महिना हिंदू धर्मानुसार आश्वासक मानला जातो.
दिवसा रक्षाबंधनाची स्तुती केली जाते. या भक्ती दिनाचे कौतुक करण्यासाठी भाऊ आणि बहिणी आश्चर्यकारक प्रकारचे कपडे घालतात. बहिणी भावंडांच्या कपाळावर टिळक लावतात, मनगटावर राखी बांधतात आणि मिठाई वाटतात.

ही प्रथा पार पाडताना बहिणींनी आपल्या भावंडांच्या भरभराटीसाठी देवाला आवाहन केले. भावंड त्यांच्या बहिणींना धीर देतात आणि वचन देतात की ते त्यांच्याबरोबर राहतील आणि प्रत्येक परिस्थितीत त्यांच्याशी वागतील. राखी बांधण्यापूर्वी दोन भावंडे पटकन तपासणी करतात. प्रथा पूर्ण झाल्यानंतर ते फक्त खातात.

Raksha Bandhan Speech in English For Class 1-12 Students

Raksha Bandhan (Rakhi) is one of the major festivals of Hinduism which is celebrated with enthusiasm all over India. This festival is also called Rakhi festival. Today we will learn about this precious festival in this article.

This Raksha Bandhan festival is celebrated on the full moon day of the month of Shravan. The atmosphere of this day in all India is worth seeing, and why not, this is a special day that is made for siblings.

Raksha Bandhan is a symbol of pious love of siblings. Like this, it is not a single day to express the role of love and duty among siblings in India. But due to the historical and religious importance of Raksha Bandhan, this day became so important.

History of Raksha Bandhan

STORY – 1

The stories of Rakshabandhan are also found in the ancient scriptures of our country. It is said that the festival gained popularity after Rani Karnavati, the widow of Chittor, sent a rakhi to the Mughal emperor Humayun for her help. Similarly, the story of Sri Krishna and Subhadra, the story of Maharani Karnavati of Mewar sending Rakhi to Humayun is inscribed in golden letters on the pages of history.

STORY – 2

According to another passage, King Bali defeated all the gods by attacking Indraloka and captured Indra’s throne. Then Indradev’s wife prayed to Lord Vishnu. Lord Vishnu took the avatar of the dwarf Vamana and went to King Bali. King Bali was considered the greatest donor of the world.

Lord Vishnu, in the form of a dwarf balan, vowed to give three steps of land by sacrifice. Dwarf Baman measured the earth, sky, and hell in three steps. After this, the dwarf Baman put his feet on the head of King Bali and sent him to the abyss. At the abyss, Bali worshiped Lord Vishnu harshly and vowed to Vishnu that he should always be with him.

Mother Lakshmi got upset with this promise because Vishnu ji always started living with sacrifice. Then Goddess Lakshmi tied a thread on Raja Bali’s wrist and asked for a gift. Mother Lakshmi asked Lord Bali for a gift from King Bali. It was only on the full moon day of Shravan month, since then the practice of celebrating Rakshabandhan started.

How is Raksha Bandhan celebrated ?

According to the Hindu date book, Raksha Bandhan falls in the month of Shravan, which is called Sawan month. It is praised on the most recent day of the Shravan month which usually falls in the August period.

The entire month of Sawan is considered promising according to Hinduism.
Raksha Bandhan is praised during the day. Brothers and sisters wear amazing types of clothes to appreciate this devotional day. The sisters apply tilak on the foreheads of the siblings, tie a rakhi on their wrists and distribute sweets.

While performing this custom, the sisters appeal to God for the prosperity of their siblings. The siblings provide endurance to their sisters and promise that they will stay with them and deal with them in every situation. Two siblings quickly check before tying a rakhi. They simply eat after the custom is completed.

 

ये भी पढ़े 

इस आर्टिकल को जितना हो सके उतना फेसबुक, ट्विटर, गूगल+ और व्हाट्सएप्प पर शेयर जरुर करें जिससे आप जैसे और भी भाई बहन इसको लिख सके और रक्षाबंधन एन्जॉय कर सके. आप सभी को रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनायें. 🙂

  •  
    1
    Share
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  

Leave a Comment