स्वच्छ भारत अभियान पर भाषण

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

स्वच्छ भारत अभियान पर भाषण : Short Speech on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi For Student

भाषण : 1

नमस्कार।

सबसे पहले मैं यहाँ पर उपस्थित अपने आदरणीय शिक्षकों, मेहमानों और अपने छात्र मित्रों को धन्यवाद देना चाहता हूँ, की स्वच्छ भारत अभियान जैसे बड़े और महत्वपूर्ण अभियान पर मुझे अपनी राय व्यक्त करने की अनुमति दी।

हमारे भारत के युवकों को भारत का भविष्य माना जाता है, और भारत का नागरिक तथा एक युवा छात्र होने के नाते से देश के विकास के लिए मैं अपनी जिम्मेदारियों को अच्छे से समझता हूँ। स्वच्छ भारत मिशन के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा करने के उद्देश्य से ही मैंने अपने भाषण के लिए यह विषय चुना हैं।

2 अक्तूबर यानी कि महात्मा गांधी जी के जन्मदिवस पर स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआतराजघाट, नई दिल्ली में भारत के प्रधानमंत्री श्री. नरेंद्र मोदी जी द्वारा की गई। भारत सरकार द्वारा शुरू किया गया यह अभियान विश्व में अब तक का सबसे बड़ा और सफल स्वच्छता अभियान माना जाता है।

स्वच्छ भारत अभियान खुले में शौच पर प्रतिबंध, शौचालय का व्यक्तिगत उपयोग, हैंड पंप, उचित स्नान, जल निकासी, लथपथ गड्ढों का निपटान, ठोस और तरल कचरे का निपटान, पर्यावरण और व्यक्तिगत स्वच्छता पर जागरूकता प्रदान करता है और उसे वास्तविक रूप देता है।

2 अक्तूबर 2019 के दिन महात्मा गांधी जी की 150 वीं जन्मतिथि तक, स्वच्छ भारत की स्थापना के उद्देश्य से ही इस अभियान को ‘राजनीति से परे’ और देशभक्ति से प्रेरित घोषित किया गया था।

सार्वजनिक और खुले में शौच को खत्म करना, नगरपालिका के ठोस कचरे का नियमन और पुनर्चक्रण करना, स्वच्छता को बढ़ावा देना, स्वच्छता के प्रति लोगों के व्यवहार में बदलाव लाना, यह स्वच्छ भारत अभियान के मुख्य उद्देश्यों में शामिल है।

जिसके अंतर्गत सरकार द्वारा व्यक्तिगत शौचालयों को उपलब्ध कराया गया। ग्रामीण परिवारों में एक शौचालय बांधने के लिए 12000 रुपयों की मदद सरकार द्वारा की गई।

जिस तरह अपने घर को स्वच्छ रखना हम अपनी जिम्मेदारी समझते है, उसी तरह हमारा देश भी हमारा अपना घर ही है, जिसे अस्वच्छता मुक्त रखना हमारा कर्तव्य है।

एक भारतीय नागरिक इस नाते से अपने भारत देश को स्वच्छ रखना मैं अपनी सबसे पहली जिम्मेदारी समझता हूँ। आशा करता हूँ कि, मैं अपने भाषण द्वारा स्वच्छ भारत अभियान का महत्व आपको समझाने में सफल हुआ हूँ।

इसी के साथ मैं अपने भाषण को समाप्त करता हूँ। मेरे दो शब्द सुनने के लिए आपने अपना कीमती समय दिया, इसीलिए धन्यवाद !

जय हिंद जय भारत !


ये भी पढ़े :

भाषण : 2

नमस्कार।

यहाँ पर उपस्थित सारे शिक्षक, अतिथि और मेरे मित्रों को मेरा आदरणीय प्रणाम। मेरा नाम दिव्या है और मैं 10वीं के कक्षा में पढ़ता हूँ। इस महान अवसर के लिए हम यहाँ पर एकत्रित हुए है

इसी वजह से मैं आपके सामने स्वच्छ भारत अभियान के महत्व पर कुछ शब्द कहना चाहता हूँ। इस विषय को मैंने भारत में बढ़ती स्वच्छता की आवश्यकता और इसके महत्व को समझाने के उद्देश्य से चुना है।

गरीबी, शिक्षा की कमी, स्वच्छता की कमी और अन्य सामाजिक मुद्दों के कारण भारत अभी भी एक अविकसित देश है। भारत ने इतनी प्रगति करने के बाद भी दुनिया के कुछ अस्वच्छ देशों में भारत की गणना होती है, जो

हमारे लिए बेहद ही शर्मनाक बात है। भारतीय नागरिक होने पर हमारा यह कर्तव्य है, की भारत के विकास में बाधा बनने वाली हर वजह को जड़ से खत्म करना चाहिए।

स्वच्छ भारत अभियान भारत के विकास को बढ़ावा देने के साथ ही भारत के नागरिकों के व्यक्तिगत विकास के लिए भी एक अच्छी शुरुआत है।

पूरे देश में स्वच्छता सुनिश्चित करने के लिए, सुरक्षित शौचालय और उचित अपशिष्ट प्रबंधन कि समस्याओं को हल करने पर यह अभियान विशेष रूप से जोर देता है।

इस अभियान का मुख्य उद्देश्य 2019 तक भारत में सभी अस्वास्थ्यकर प्रथाओं को समाप्त करने के साथ ही स्वच्छता सुविधाओं को प्रदान करना था। स्वच्छ भारत अभियान 2019 तक 90% सफल हुआ है।

महात्मा गांधीजी का यह मानना था, की भारत में स्वच्छता स्वतंत्रता से भी अधिक महत्वपूर्ण है। इसी कारण इस स्वच्छता अभियान की शुरुआत 2 अक्तूबर 2014 को महात्मा गाँधी जी की 145 वीं जन्मतिथि पर किया गई थी।

स्वच्छ भारत अभियान की सफलता 2019 में हुई गांधीजी की 150 वीं जन्मतिथि के लिए एक भावपूर्ण श्रद्धान्जलि साबित हुई।

स्वच्छ भारत अभियान भारत के प्रति वैश्विक धारणा को बदलने की क्षमता रखता है। इससे भारत में हर साल ज्यादा पर्यटकों को आकर्षित किया जा सकता है,

जो भारत की अर्थव्यवस्था का स्तर ऊंचा करने में मदद कर सकता है। भारत का विकास भारत की स्वच्छता से काफी गहरे रूप से जुड़ा हुआ है। आज ही आप, मैं और हम सभी को यह प्रतिज्ञा करनी चाहिए कि भारत को स्वच्छ बनाकर इसके विकास में हम कोई कमी नहीं रखेंगे।

इसी के साथ मैं अपना भाषण यही पर समाप्त करता हूँ। धन्यवाद।

जय हिंद जय भारत !


भाषण : 3

नमस्कार !

यहाँ उपस्थित सारे आदरणीय अतिथि, गुरुजी और छात्रों का मैं स्वागत करता हूँ। मैं विशेष रूप से आप का आभार भी मानना चाहता हूँ कि, इस विशेष अवसर पर मुझे अपने विचार शब्दों में कहने की अनुमति दी गई।

स्वच्छ भारत अभियान हमारे भारत के प्रधानमंत्री श्री. नरेंद्र मोदी जी ने भारत के राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी जी का आदर्श अपने सामने रखते हुए, 2 अक्तूबर 2014 के दिन शुरू किया था।

स्वच्छ भारत अभियान ने इससे पहले शुरू किए गए अन्य स्वच्छता अभियानों की अक्षमताओं को सबसे पहले दूर किया। सरकार द्वारा इस अभियान को सफल बनाने के लिए यथार्थ वादी और व्यवहारिक दृष्टिकोण अपनाया गया।

आम जनता, स्वयं सेवकों, आपके और मेरे जैसे हर एक भारतीय को इस अभियान में शामिल किया गया है। यही नहीं बल्कि भारत के राजनेता, फ़िल्म और टेलीविजन में कार्यरत अभिनेताओं और अभिनेत्रियों के द्वारा भी इस अभियान का बड़े पैमाने पर प्रचार किया गया। भारतीयों के स्वच्छता के प्रति किए गए इसी योगदान की वजह से यह भारत का सबसे बड़ा और सफल स्वच्छता अभियान बन चुका है।

इस अभियान को शहरी और ग्रामीण स्तर पर विभाजित किया गया था। सरकारी संगठनों द्वारा किए गए सर्वेक्षणों द्वारा खुले में शौच पर प्रतिबंध लगाने में इस अभियान को शानदार सफलता प्राप्त हुई है।

ग्रामीण भागों में करीबन 10 करोड़ शौचालयों की स्थापना की गई, जिसकी वजह से भारत के 6 लाख गांव खुले में शौच मुक्त घोषित किए गए।

इस अभियान को शुरू करने के बाद ऐसे कई किस्से सामने आए, जहाँ लोगों नर इकट्ठा होकर रास्ते, समुद्र तट आदि कोस्वच्छकर अभियान के प्रति अपना योगदान दिया। साथ ही लोगों के सामने सफाई का अच्छा उदाहरण रख दिया। इसी तरह मैं और आप भी अपने खाली समय में सड़कों और अन्य जगहों को स्वच्छ कर अपना

योगदान दे सकते है।

इस अभियान का मुख्य उद्देश्य लोगों को स्वच्छता का महत्व समझाकर इसके प्रति लोगों के व्यवहार को बदलना भी था। हालांकि 2014 में शुरू किए गए इस अभियान को आज तक 90% सफलता प्राप्त हुई है, लेकिन यह 100% नहीं है। और इसे 100% बनाने की जिम्मेदारी हमारी ही है, जिसे आने वाले भविष्य में हमें ही पूरा करना है।

हम भारतीयों को स्वच्छता का महत्व समझना जरूरी है और उसके प्रति अपना योगदान देना भी। सच कहाँ जाए तो हमारे लिए यह काफी शर्मनाक बात है कि, हमें स्वच्छता का महत्व समझाने की जरूरत 21वीं सदी में है।

आप, मैं और हम सभी अगर भारत की समस्याओं को समझकर पहले से ही इन्हें खत्म करने के लिए प्रयास करें, तो भारत के विकास में यह बहुत बड़ा योगदान साबित होगा। यही रुक कर अब मैं आप से विदाई की अनुमति चाहता हूँ।

मेरे विचार सुनने के लिए मैं आपका आभारी हूँ। धन्यवाद !

जय हिंद जय भारत !

“साफ भारत, खुशहाल भारत”


ये भी जाने l 

Related Queries : Short Speech on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi For Student l speech on swachh bharat abhiyan l speech on swachh bharat abhiyan in hindi

Leave a Comment