एयर सर्किट ब्रेकर (ACB) क्या है यह कैसे वर्क करता है

  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  
    1
    Share

आज हम इस लेख के माध्यम से ACB का Full Form क्या होता है ? एसीबी क्या होता है ? यह कैसे वर्क करता है ? एसीबी के अलग-अलग प्रकार कौन-कौन से हैं ?

एसीबी के Applications क्या-क्या होते हैं ? आदि के बारे में बताने वाले हैं। Friends यदि आप एसीबी से संबंधित सभी जानकारियां प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारा यह लेख पूरा जरूर पढ़ें।

ACB क्या होता है

ACB, यह एक ऐसा इलैक्ट्रॉनिक उपकरण है जिसका उपयोग 800 Amps से 10K Amps तक के विद्युत परिपथों में Overcurrent और Short-circuit से सुरक्षा प्रदान करने के लिए किया जाता है।

ये आमतौर पर 450V से कम वोल्टेज वाले Applications में उपयोग किए जाते हैं। आप 450V तक के Distribution Panels में इन Systems को देख सकते हैं।

एयर सर्किट ब्रेकर एक ऐसा सर्किट ऑपरेशन ब्रेकर है जो एक निश्चित वायुमंडलीय दाब पर Arc Extinguishing Medium के रूप में हवा के अंदर Operate होता है।

वर्तमान में बाजार में कई प्रकार के एयर सर्किट ब्रेकर्स और स्विचिंग गियर्स उपलब्ध हैं जो टिकाऊ, उच्च दक्षता वाले हैं तथा उनका Installation और Maintainance बहुत आसान हैं।

आज के समय में एयर सर्किट ब्रेकर  ने ऑयल सर्किट ब्रेकरों को पूरी तरह से Replace कर दिया है।

ACB FULL FORM IN ELECTRONIC

ACB FULL FORM
Air Circuit Breaker

ACB FULL FORM IN HINDI

ACB FULL FORM IN HINDI
एयर सर्किट ब्रेकर

एसीबी वर्क कैसे करता है

Air Circuit Breakers का काम सर्किट को मेक या ब्रेक करना होता है। एयर सर्किट ब्रेकर्स में Fixed और मूविंग Contact रहते हैं। ये कांटेक्ट Cadmium-Silver Alloy के बने होते हैं, जिनका गुणधर्म इलेक्ट्रिकल Arc के सामने एक अच्छा प्रतिरोध पैदा करता होता है।

ये Contacts जब ब्रेकर के साथ ऑपरेशन में होते हैं यानि सर्किट में मेक एंड ब्रेक करते हैं, तब वहां बहुत अधिक Electrical Sparking (Electrical Arc) जनरेट करते हैं।

जब सर्किट ब्रेकर ओपन होता है, तब Main Contact ओपन (यानी हटा हुआ) होता है तथा उसी वक्त Auxiliary Contact जुड़े हुए होते हैं। Main Contact ओपन होने के बाद जब Auxiliary Contact भी ओपन होता है तो उसी वक्त Sparking होती है, जिसका असर Main Contacts पर नहीं होता।

इसी तरह जब ब्रेकर Close किया जाता है, तब सबसे पहले Auxiliary Contact कनेक्ट होते हैं, उसके बाद Main Contacts कनेक्ट होते हैं। जब Auxiliary Contact कनेक्ट होगा तभी इलेक्ट्रिक Arc जनरेट होगा जिसका असर Main कांटेक्ट पर नहीं होता।

इन ब्रेकर्स में Arc Chute भी लगाए जाते हैं। Arc Chute स्पार्किंग की Length को बढ़ाता है और उच्च रेजिस्टेंस उत्पन्न करता है, जिससे Sparking की Strength कम होती है।

Air Circuit Breakers ओवर लोड, शाॅर्ट-सर्किट और अर्थ फॉल्ट, अंडर वोल्टेज जैसे प्रोटेक्शन प्रदान करते हैं। ये इनमें से किसी भी फाॅल्ट के समय सर्किट को सप्लाई से अलग कर देते हैं।

Air Circuit ब्रेकर्स 3 पोल और 4 पोल वाले होते हैं। थ्री पोल एयर सर्किट ब्रेकर में तीन फेज के तीन पोल होते हे, जबकि फाॅर पोल वाले में 3 फेज और एक न्युट्रल मिलाके 4 पोल होते हैं।

ACB के प्रकार 

एयर सर्किट ब्रेकर्स प्रमुख रूप से तीन प्रकार के होते हैं और घरों के अंदर मध्यम वोल्टेज और घरों के स्विचिंग उपकरणों को Maintain रखने के लिए व्यापक रूप से उपयोग किए जाते हैं:-

Plain Break Type Air Circuit Breaker 

प्लेन ब्रेक एयर सर्किट ब्रेकर्स, एयर ब्रेकर का सबसे सरलतम रूप हैं। इसमें संपर्क करने वाले Main Contacts Points दो सींगों के आकार में बने होते हैं। इन सर्किट ब्रेकर्स की Electric Arc एक टिप से दूसरी टिप की तरफ फैलती है।

Magnetic Blowout Type Air Circuit Breaker :

चुंबकीय ब्लोआउट एयर सर्किट ब्रेकर का उपयोग 11KV तक की वोल्टेज Capacity वाले Circuits में किया जाता है। इनमें Electric Arc का Extension ब्लोआउट कॉइल्स में विद्युत प्रवाह द्वारा उत्पन्न हुए Magnetic Field से प्राप्त किया जाता हैं।

Air Chute Air Circuit Breaker :

एयर चूट एयर सर्किट ब्रेकर्स में, Main Contacts आमतौर पर तांबे से बने होते हैं और Closed Position में विद्युत का चालन करते हैं। Air Chute Air Circuit Breakers में Contact Resistance बहुत कम होता है और इनपर Silver की एक परत चढ़ाई गई होती है। इसमें Electric Arc उत्पन्न करने वाले Contacts ठोस और ऊष्मीय प्रतिरोधक होते हैं तथा तांबा मिश्र धातु के बने होते हैं

ACB का बाहरी संरचना :  Outer Structure of ACB

  1. Front Cover
  2. Arc extinguish chamber
  3. Control circuit terminal
  4. Electric Trip Relay
  5. Count 
  6. Closing button
  7. Charging handle
  8. Name plate
  9. Caution mark
  10. position indicator
  11. Pushing/Drawing lever hole
  12. Charging indicator
  13. Extension rail 
  14. Trip button 
  15. ON/OFF indicator
  16. Draw-out profile
  17. Main body Profile
  18. Handle 

ACB का आंतरिक संरचना : internal Structure Of ACB

  1. Front cover  
  2. Electronic trip relay
  3. Auxiliary switch
  4. Arc extinguish chamber
  5. Closing coil     
  6. ON/OFF indicator
  7. Closing mechanism  
  8. Trip mechanism 
  9. Trip coil
  10. Charging handle
  11. Charging indicator 
  12. Draw-out mechanism
  13. Position indicator 
  14. Gear block     
  15.  Draw-out cam
  16. Extension rail  
  17. Closing spring 
  18. Movable shunt
  19. Safety shutter
  20. Circuit breaker connection conductor
  21. Load side conductor
  22.  Draw-out conductor
  23. Breaking spring
  24. Power supply side conductor
  25. Fixed contact
  26. Traveling contact
  27. Draw-out main body

ACB के उपयोग 

एयर सर्किट ब्रेकर्स का उपयोग पावर स्टेशन Auxiliaries और औद्योगिक संयंत्रों को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है। एसीबी औद्योगिक संयंत्रों, ट्रांसफार्मर, कैपेसिटर और जेनरेटर जैसी विद्युत मशीनों को सुरक्षा प्रदान करते हैं।

  • एसीबी मुख्य रूप से Plants की सुरक्षा के लिए उपयोग किए जाते हैं, जहां पर आग या विस्फोट होने की संभावनाएं अधिक होती हैं।
  • एयर ब्रेकर सर्किट, आर्क के एयर ब्रेक सिद्धांत का उपयोग डीसी सर्किट और एसी सर्किट में 12KV तक किया जाता है।
  • एयर सर्किट ब्रेकर्स में उच्च प्रतिरोधक शक्ति होती है जो Arc के प्रतिरोध को विभाजन करके, ठंडा करके और लंबाई में वृद्धि करके बढ़ाते हैं।
  • एयर सर्किट ब्रेकर का उपयोग लगभग 15kV तक के Electricity Sharing System और NGD में भी किया जाता है।

आशा करते हैं Friends की आपको हमारे द्वारा ACB के बारे मे लिखा गया Blog पसंद आया होगा। यदि हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इसे अपने Friends व Social Media Sites पर Share ज़रूर करें

आपके मन में ACB से संबंधित कोई सवाल उठ रहा है तो आप Comment करके पूछ सकते हैं तथा भविष्य में ऐसी ही रोचक जानकारियों के लिए हमारे Blog को follow कर सकते हैं, धन्यवाद।

  •  
    1
    Share
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  

Leave a Comment