कृष्ण-जन्माष्टमी पर निबंध !

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कृष्ण जन्माष्टमी पर छोटे-बडें निबंध (Short and Long Essay on Krishna Janmashtami in Hindi)

निबंध – 1 (300 शब्द)

प्रस्तावना : कृष्ण जन्माष्टमी,जन्माष्टमी या गोकुलाष्टमी के नाम से भी जाना जाता है। यह एक वार्षिक हिन्दू त्यौहार है जो कृष्ण के जन्मदिन पर मनाया जाता है। कृष्ण,विष्णु  का 8 वाँ अवतार है। भारत में जन्माष्टमी  बहुत श्रद्धा और उत्साह के साथ मनाया जाता है। यह जुलाई या अगस्त के महीने में होता है।

जन्माष्टमी के पीछे का इतिहास

श्री कृष्ण देवकी और वासुदेव  के आठवें पुत्र थे। मथुरा नगरी का राजा कंस था। वो बहुत अत्याचारी था। उसके अत्याचार दिन प्रति दिन बढ़ती ही गए थे। एक दिन आकाशवाणी ने कहा कि “देवकी और वासुदेव का आठवां पुत्र कंस का वध करेगा”। यह बात सुनकर कंस देवकी को वसुदेव सहित काल कठोरी में बंद कर दिया।

वहीं पर देवकी ने श्री कृष्ण को जन्म दिया। तब भगवान विष्णु ने वसुदेव को आदेश दिया कि वे श्री कृष्ण को गोकुल के  यशोदा माता  और नंद बाबा के पास पहुंचा दे,ताकि वह अपने मामा से सुरक्षित रह सके।

जन्माष्टमी का उत्सव

लोग पूरे आनंद और समर्पण के साथ जन्माष्टमी मनाते हैं। श्रीकृष्ण के मंदिरों को खूबसूरती से सजाया जाता हैं। मथुरा और बृंदावन, जिन स्थानों पर कृष्ण ने अपना बचपन बिताया था, वे इस दिन के लिए प्रसिद्ध हैं।

लोग भजन, कीर्तन का जाप करते हैं और आधी रात को कृष्ण के जन्म का जश्न मनाते हैं। जन्माष्टमी “दही हांडी” के लिए प्रसिद्ध है। दही हांडी दही से भरा हुआ मिट्टी का बर्तन है। युवा लोग समूह बनाते हैं और पिरामिड आकार बनाकर उस बर्तन को तोड़ने की कोशिश करते हैं।

लोग “गोविंदा अला रे” जैसे गाने गाते हैं। लोग एक साथ मिल कर परिवारों और रिश्तेदारों के साथ स्वादिष्ट भोजन का आनंद लेते हैं।

निष्कर्ष : इसलिए जन्माष्टमी मूलतः लोगों के विश्वास का प्रतीक है। जन्माष्टमी बुराई पर अच्छाई की जीत है। जन्माष्टमी लोगों को एक साथ लाता है और एकता के सिद्धांत का जश्न मनाता है।


निबंध – 2 (400 शब्द)

प्रस्तावना : यह भगवान कृष्ण की जयंती का प्रतीक है, जिसे भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है। त्योहार उत्सव श्रावण मास के अंधेरे पखवाड़े के आठवें दिन होता है।

जन्माष्टमी के पीछे की कहानी

कृष्ण देवकी और वासुदेव के आठवें पुत्र थे। राजा कंस ने यादव प्रांत पर शासन किया जो “मथुरा” है। एक भविष्यवाणी का अनुमान है कि कंस की मृत्यु उसकी बहन देवकी के आठवें पुत्र द्वारा होगी।

कंस ने जन्म लेते ही देवकी के सभी पुत्रों को मार डाला। सातवें बेटे बलराम को चुपके से रोहिणी को सौंप दिया गया। आठवें पुत्र का नाम कृष्ण था। वासुदेव जेल में ही पैदा हुए कृष्ण के साथ भाग गए। उन्होंने कृष्ण को यशोदा और नंद को गोकुला में सौंप दिया।

कृष्ण अवतार की परिभाषा 

कृष्ण का अवतार अंधेरे के अंत का संकेत देता है और पृथ्वी पर हावी होने वाली बुरी ताकतों से बाहर निकलता है। यह कहा जाता है कि वह एक ब्राह्मण था जो निर्वाण तक पहुँच गया था। कृष्ण को नीले रंग में जाना जाता है।

नीला रंग आकाश की तरह है जिसमें प्रभु की असीम क्षमता और शक्ति है। उसके पीले कपड़े धरती के रंग का प्रतिनिधित्व करते हैं जब उसे बेरंग लौ में पेश किया जाता है। बुराई को खत्म करने के लिए एक शुद्ध परिमित व्यक्ति का जन्म कृष्ण के रूप में हुआ था। कृष्ण द्वारा निभाई गई बांसुरी का संगीत दिव्यता का प्रतीक है।

जन्माष्टमी का उत्सव

हिन्दू जन्माष्टमी के इस त्यौहार को दो दिन मंदिरों, घरों और समुदायों में मनाते हैं। आधी रात से शुरू होने वाले उत्सव से 24 घंटे पहले भक्तों द्वारा व्रत रखा जाता है। इस अवसर पर कृष्ण की मूर्ति को पालने में रखकर उसे दूध, घी, शहद, गंगाजल, तुलसी के पत्ते से बने पंचामृत से स्नान कराया जाता है।

इस पंचामृत को प्रसादम के रूप में लोगों को परोसा जाता है । मुंबई में मटकी फोड़ो, युवा लड़कों और लड़कियों द्वारा डांडिया प्रतियोगिता का आयोजन करके जन्माष्टमी मनाने की अपनी परंपरा है। मटकी फोडो एक प्रतियोगिता है जिसमें व्यक्ति को दही से भरे मिट्टी के बर्तन को तोड़ने की आवश्यकता होती है।

भारतीय संस्कृति पर  कृष्ण का प्रभाव

भगवान कृष्ण के जन्म और जीवन का भारतीय संस्कृति, दर्शन और सभ्यता पर गहरा प्रभाव पड़ा। भगवत गीता में कृष्ण द्वारा निभाई गई भूमिका महाकाव्य महाभारत युद्ध का वर्णन करती है जिसमें उनके और अर्जुन के बीच एक संवाद शामिल है। वहाँ शिक्षक और दिव्य सारथी के रूप में कृष्ण प्रस्तुत हैं। धर्म, योग, कर्म, ज्ञान और भक्ति आवश्यक तत्व हैं।

निष्कर्ष : जन्माष्टमी लोगों को शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत बनाती है। यह हमारे लिए हर किसी के साथ अपनी खुशी साझा करने का मौका पैदा करता है।


निबंध – 3 (500 शब्द)

प्रस्तावना : कृष्ण जन्माष्टमी को जन्माष्टमी और गोकुलाष्टमी के नाम से भी जाना जाता है। यह एक वार्षिक हिन्दू त्योहार है, जो कृष्ण के जन्मदिन पर मनाया जाता है। कृष्ण विष्णु के 8 वें अवतार हैं।

जन्माष्टमी, कृष्ण पक्ष के आठवें दिन हिन्दू लूनी सौर कैलेंडर के अनुसार मनाई जाती है , श्रावण के महीने में । जो ग्रेगोरियन कैलेंडर के अगस्त / सितंबर में आता है। यह विशेष रूप से वैष्णववाद परंपरा का एक महत्वपूर्ण त्योहार है।

जन्माष्टमी के पीछे का कारण

श्री कृष्ण देवकी और वसुदेव के आठवें पुत्र थे। मथुरा नगरी का राजा कंस था। जो बहुत अत्याचारी था । उसके अत्याचार दिन प्रति दिन बढ़ते  ही  जा रहे थे। एक समय आकाशवाणी हुई कि उसकी बहन देवकी का आठवा पुत्र कंस का वध करेगा।

यह सुनकर कंस ने अपनी बहन देवकी को वासुदेव सहित काल कोट्री में बंद कर दिया। कंस ने देवकी के कृष्ण से पहले 7 बच्चों को जन्म लेते ही मार डाला।

जब देवकी ने श्री कृष्ण को जन्म दिया तब भगवान विष्णु ने वसुदेव को आदेश दिया कि वे श्री कृष्ण को गोकुल के यशोदा माता और नंद बाबा के पास पहुंचा दे। जहां वो सुरक्षित रह सके। श्री कृष्ण का गोकुल आने की खुशी में वहा इस दिन को एक त्यौहार की रूप में मनाया जाता है। श्री कृष्ण का पालन पोषण यशोदा माता और नंद बाबा की देख रेक में हुआ।

जन्माष्टमी पर कार्यक्रम

भगवत भक्ति गायन के अनुसार जीवन कृष्ण के नृत्य नाटक अधिनियमन,मध्य रात्रि के माध्यम से भक्ति गायन, उपवास, एक रात जागरण और अगले दिन महोत्सव जन्माष्टमी समारोह का हिस्सा हैं।

यह विशेष रूप से मथुरा और बृंदावन में मनाया जाता है। मणिपुर में पाए जाने वाले प्रमुख वैष्णव और गैर सांप्रदायिक समुदायों के साथ, असम, बिहार, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, मध्य प्रदेश, राजस्थान, गुजरात, कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु और भारत के अन्य सभी राज्यों में मनाया जाता है ।

जन्माष्टमी के बाद त्योहार नंदोत्सव मनाया जाता है जो उस अवसर को मनाता है जब नंदबाबा  कृष्ण की जन्म के सम्मान में लोगों को उपहार वितरित करते थे। श्री कृष्ण  जन्माष्टमी के दिन मंदिरों को खासतौर पर सजाया जाता हैं। इस दिन सभी 12 बजे तक व्रत रखते हैं। इस दिन मंदिरों में भगवान कृष्ण को झूला झूलते है। इस दिन बच्चों को बाल गोपाल  के अवतार में सजाया जाता है।

दही हांडी /मटकी फोड़

जन्माष्टमी के दिन देश में अनेक जगह दही हांडी प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है। दही से भरा मटकी की हांडी को आसमान में लटकते है और उसे फोड़ना होगा। इस प्रतियोिगिता में जीतने वाले को उचित इनाम मिलता है।

जन्माष्टमी का महत्व

जन्माष्टमी का अपना एक महत्व है। भगवद्गीता नामक प्राचीन काल की एक पवित्र पुस्तक में भगवान विष्णु कहते हैं, “जब भी बुराई का कोई प्रभुत्व होगा, मैं बुराई को दूर करने के लिए इस दुनिया में अवतार लूंगा”। कृष्ण जन्माष्टमी भी उत्साह के लिए मनाई जाती है। यह पवित्र त्योहार सभी लोगों को एक साथ लाता है। इसलिए यह विश्वास और एकता का प्रतीक है।

कृष्ण को भोग के रूप में क्या देते है

जन्मास्टमी का भोजन के साथ एक शौकीन संबंध है। कृष्ण को “माखनचोर” भी कहा जाता था। भक्त एक विशेष छप्पन भोग भी तैयार करते हैं, जिसमें 56 प्रकार के खाद्य पदार्थ होते हैं। खीर, मखान मिश्री, रबड़ी  प्रसिद्ध मिठाई हैं।

निष्कर्ष : इस त्योहार का मुख्य महत्व अच्छी और सच्चाई  का प्रोत्साहन करने और हतोत्साहित करने में निहित है।

हिंदी निबंध।

अगर आपको किसी और टॉपिक पर निबंध चाहिये तो आप यह क्लिक करे – Hindi Essay

उम्मीद है दोस्तो आपको हमारे द्वारा “Essay/Nibandh/Paragraph/Lines/anuched on janmashtami in Hindi दी गई ये जानकारी अच्छी लगी होगी । अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया तो ये आर्टिकल अपने दोस्तों जे साथ शेयर करे और आप हमें फेसबुक और  इंस्टाग्राम पेज पर फॉलो कर सकते है जिससे आपको हमारे नए आर्टिकल की जानकारी मिलती रहे ।

धन्यवाद !

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment