राष्ट्रीय जंक फूड दिवस पर निबंध : Essay on Junk Food in Hindi

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

राष्ट्रीय जंक फूड दिवस पर निबंध : Essay on Junk Food in Hindi Language (Nibandh, Paragraph)

Essay on Junk Food in Hindi : दोस्तों आज हमने राष्ट्रीय जंक फूड दिवस पर निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12 के विद्यार्थियों के लिए लिखा है. Get Some Essay on Junk Food in Hindi for class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11 & 12 Students.

प्रस्तावना: हर एक को पारंपरिक खाद्य पदार्थों के बजाय जंक फूड की बहुत शौक है। राष्ट्रीय जंक फूड दिवस 21 जुलाई को मनाया जाता है। इस आर्टिकल  के जरिए हम राष्ट्रीय जंक फूड दिवस के बारे में जानकारी देखेंगे।

राष्ट्रीय जंक फूड दिवस किसी भी तरह से आधिकारिक तौर पर मान्यता प्राप्त नहीं  की है।यह अक्सर अमेरिका जैसे देशों में मनाया जाता है।यह हमेशा एक महान बहाना है कि अमेरिकी या कोई भी हर किसी को  अपनी डाइट को छोड़ दें और ऐसे सभी खाद्य पदार्थों का सेवन करें जो मीठे और कैलोरी से भरपूर हों।

2020 में राष्ट्रीय जंक फूड दिवस 21 जुलाई, मंगलवार को है।यहां तक ​​कि डॉक्टर भी कहते हैं कि हमारे पसंदीदा जंक फूड को एक बार खाना स्वास्थ्य को बढ़ाने के लिए अच्छा है।

जंक फूड का इतिहास 

क्रैकजैक को पहला जंक फूड होने का श्रेय दिया जाता है।पहला महान अमेरिकी जंक फूड क्रैक जैक, पॉपकॉर्न और मूंगफली का नमकीन मीठा मिश्रण था।जिसे 1893 में चिकागो दुनिया के मेले में भाइयों फ्रेडरिक और लुइस रेकहुइन द्वारा पेश किया गया था।

1996 में MC डोनल्ड्स जैसे बड़े फास्ट फूड  भारत अाई। बड़े आउटलेट जैसे डोमोनोस, पिज्जा, केएफसी आदि।ऐसिम्स के एक अध्ययन के अनुसार, यह इंगित करता है कि भारत उसी राह पर चल रहा है जहां फास्ट फूड की खपत में अमेरिका चल  रही है।

जंक फूड और फास्ट फूड के इतिहास को अमेरिका के इंडस्ट्रियलिस्एशन के समय में पेश किया गया था।पहले 1800 के भोजन को लगभग विशेष रूप से घर में तैयार किया गया था और न्यूनतम संसाधित सामग्री के साथ बनाया गया था।

एक खाद्य इतिहासकार और फास्ट फूड और जंक फूड के लेखक एंड्रयू स्मिथ कहते हैं कि हम जो खाने के लिए प्यार करते हैं उसका एक विश्वकोश, 1820  जंक फूड युग के शुभारंभ के साथ आटा मिलों के औद्योगीकरण (industrialization) को भी  श्रेय देता है।

1860 के दौरान अमेरिका गृह युद्ध के दौरान बड़े पैमाने पर उत्पादित राशन के जार और डिब्बे से खाये थे ।

ऑटोमोबाइल संस्कृति के उदय और 1950 में अमेरिका शहरों की प्रसिद्ध काम होने के द्वारा फास्ट फूड का  उद्भव हो गई।जंक फूड को खाद्य वैज्ञानिकों और स्नैक निर्माताओं द्वारा सावधानीपूर्वक बनाया  गया था  ताकि लोगों अधिक से अधिक चाहने वाले   किया जा सके।

जंक फूड विज्ञान भी विकासवादी जीव विज्ञान का काफी श्रेय देता है।आधुनिक मनुष्यों का दिमाग उस स्थान और समय में विकसित हुआ जहां अधिक कैलोरी की खोज में दिन जीवन का उपयोग किया जाता है।सर्वव्यापी के रूप में हम शारीरिक रूप से विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों को चक  सकते हैं लेकिन सभी खाद्य पदार्थ कैलोरी के बराबर नहीं होते हैं।

क्या आपने कभी ऐसे दिन की कामना की है जहाँ आप जो चाहें वो खा सकें ? तो यह दिन राष्ट्रीय जंक फूड दिवस है। यह दिन उन खाद्य पदार्थों के लिए समर्पित है जिन्हें हम नाश्ते के लिए पसंद करते हैं। इस दिन हम हर भोजन के लिए जंक फूड खा सकते हैं।

1950 में अमेरिका में लोकप्रिय जंक फूड आम तौर पर वसा, शर्करा, नमक और कैलोरी में उच्च होते  हैं।लेकिन वे स्वादिष्टता में भी उच्च हैं।जंक फूड डे अपने आप को ठीक करने का सही दिन है।इस दिन हमें अपने पसंदीदा जंक फूड को बिना किसी ग्लानि(गिल्ट) के साथ खाने  की अनुमति है।

ये भी पढ़े : 

राष्ट्रीय जंक फूड दिवस की गतिविधियाँ


अपने पसंदीदा जंक फूड खाएं

यह राष्ट्रीय जंक फूड दिवस में भाग लेने का सबसे आसान और सबसे मजेदार तरीका है।लालास है, चिप्स? पाई? फ्रेंच फ्राइज? की। आपका दिल जो कुछ भी खाने की इच्छा करे, उसे उठाएं और खा लीजिए।

अपना जंक फूड सोशल मीडिया पर साझा करें

जंक फूड दिवस भोजन के बारे में सही जान ने का और अपनी पसंद खाना खाने का सही समय है ज्यादातर लोग राष्ट्रीय जंक फूड दिवस को टैग करके उन लोगों की तस्वीरें लेते हैं और जो वे खाते हैं उनका भी और सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हैं।

जंक फूड पार्टी की घोषणा करें

केवल अकेले ही   जंक फूड खाने के अलावा  अपने दोस्तों के साथ खाना बेहतर है।जंक फूड के लिए कुछ दोस्तों को आमंत्रित करके अपना खुशिनौर मजें को बांटने केलिए एक अच्छा मौका है।

फास्ट फूड को भूख को संतुष्ट करने के लिए एक त्वरित और आसान तरीके की तरह विज्ञापित किया जाता है लेकिन यह समय है जब हमें समाज में सभी चेहरों पर इसके नुकसान को पहचानना होगा।

निष्कर्ष/उपसर्ग: किसी भी खाने कि चीज हो उसे कम खाने से कोई दिक्कत नहीं है चाहे वो फर्स्ट फूड हो  या कुछ भी।ये जंक फ़ूड डे को हमे हमारे पुराने रिश्तों को  फिर से याद करने की एक साधना बना सकते है।ज्यादा ना खाकर थोड़ा खाने से कुछ नुकसान नहीं होगा।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment