SOS मोर्स कोड का अर्थ क्या होता है SOS की पूरी जानकारी

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

INTRODUCTION

Friends आज हम जानेंगे कि SOS का Full Form क्या होता है? SOS का अर्थ क्या होता है? Morse Codes क्या होते हैं? और इनका उपयोग किस क्षेत्र में व क्यों किया जाता है ?

दोस्तों आज हम इस Blog के माध्यम से SOS व Morse Codes के बारे में पूरी जानकारी देने वाले हैं। यदि आप SOS से संबंधित सभी जानकारियाँ प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारा यह Blog अंत तक ध्यान-पूर्वक अवश्य पढ़ें।

SOS Full Form / MEANING OF SOS

SOS एक मोर्स कोड संकट संकेत है, जिसका उपयोग अंतरराष्ट्रीय स्तर पर किया जाता है, जो मूल रूप से समुद्री उपयोग के लिए स्थापित किया गया था।

SOS Full Form
Save Our Souls/Save Our Ship (हमें बचाओ)

 

 

औपचारिक संकेतन में SOS को एक Overscore लाइन के साथ लिखा गया है, यह दर्शाने के लिए कि “SOS” के अलग-अलग अक्षर मोर्स कोड में क्रमश: Three Dots/Three Dashes/Three Dots (•••—•••) के बिना टूटे क्रम के रूप में भेजे जाते हैं, जिसमें अक्षरों के बीच कोई Space नहीं होता।

अंतर्राष्ट्रीय मोर्स कोड में तीन डॉट्स “S” अक्षर बनाते हैं और तीन डैश अक्षर “O” बनाते हैं, इसलिए “S O S” डॉट्स और डैश के क्रम को याद रखने का एक सामान्य तरीका बन गया। इसमें ध्यान देने वाली बात यह है कि IWB, VZE, 3B और V7 समान क्रम बनाते हैं, लेकिन पारंपरिक रूप से SOS याद रखने में सबसे आसान है।

हालांकि आधिकारिक तौर पर SOS केवल एक विशिष्ट मोर्स कोड को दर्शाता है, जो किसी भी चीज़ के लिए संक्षिप्त नाम नहीं है अर्थात इसका कोई निश्चित Full Form नहीं है। लोकप्रिय उपयोगों में इसे “Save Our Soul” और “Save Our Ship” जैसे वाक्यांशों से जोड़ा जाता है।

इसके अलावा, आपात स्थितियों में इसके बहुत ज्यादा उपयोग के कारण, “SOS” वाक्यांश अनौपचारिक रूप से एक संकट या कार्रवाई की आवश्यकता को दर्शाने के लिए उपयोग में लाया जाता है।

HISTORY OF SOS

SOS की उत्पत्ति जर्मन सरकार के समुद्री रेडियो नियमों में हुई जो 1 अप्रैल 1905 से प्रभावी हुई थी। जब इसे 3 नवंबर 1906 को हस्ताक्षरित पहले अंतर्राष्ट्रीय रेडियो-टेलीग्राफ समझौते के सेवा नियमों में शामिल किया गया,तब यह एक विश्वव्यापी मानक बन गया,जो 1 जुलाई 1908 को प्रभावी हुआ।

आधुनिक शब्दावली में, SOS एक मोर्स “प्रक्रियात्मक संकेत” या “Prosign” है। यह प्रसारण के लिए एक शुरुआत के संदेश के रूप में इस्तेमाल किया जाता है, जो सहायता का अनुरोध करता है जब जान-माल का नुकसान होता है या किसी संपत्ति पर भयावह नुकसान होता है।

दूसरे क्षेत्रों में इसका उपयोग मैकेनिकल ब्रेकडाउन, चिकित्सा सहायता के लिए अनुरोध और मूल रूप से किसी अन्य स्टेशन द्वारा भेजे गए एक संकट संकेत के लिए किया जाता है। SOS 1999 में भी समुद्री रेडियो संकट संकेत बना रहा, जब इसे वैश्विक समुद्री संकट और सुरक्षा प्रणाली द्वारा बदल दिया गया।

SOS को अभी भी एक मानक संकट संकेत के रूप में मान्यता प्राप्त है जिसे किसी भी सिग्नलिंग पद्धति के साथ उपयोग किया जा सकता है। इसका उपयोग दृश्य संकट संकेत के रूप में किया गया है, जिसमें प्रकाश की तीन छोटी/तीन लंबी/तीन छोटी चमक शामिल हैं।

कुछ मामलों में सहायता के लिए इसके अलग-अलग अक्षरों “S O S” को समुद्र तटों, रेगिस्तान, खाली भूमि या ऐसे ही समतल स्थानों पर लिख दिया जाता है। इसका कारण यह है कि “SOS” को राइट साइड अप के साथ-साथ उल्टा भी पढ़ा जा सकता है जो कि Visual Recognition के लिए फायदेमंद है।

SOS सिग्नल कैसे भेजे जाते हैं ?

  • Smoke के द्वारा
  • Mirror के द्वारा
  • Light के द्वारा
  • Tapping के द्वारा

WHAT ARE MORSE CODES ?

मोर्स कोड दूरसंचार में इस्तेमाल की जाने वाली एक विधि है जिसमें किसी भी शब्द के अक्षरों को दो अलग-अलग मानक Signals के क्रम द्वारा Encode किया जाता है, जिन्हें Dots और Dashes या Dits और Dahs कहा जाता है। मोर्स कोड का नाम टेलीग्राफ़ के आविष्कारक Samuel F.B. Morse के नाम पर रखा गया है।

अंतर्राष्ट्रीय मोर्स कोड अंग्रेजी के 26 अक्षरों A से Z, कुछ गैर-अंग्रेजी अक्षर, अरबी अंकों और विराम चिह्नों तथा प्रक्रियात्मक संकेतों (Prosigns) के एक छोटे से समूह को एन्कोड करता है। इसमें छोटे (Small Latters) और बड़े (Capital Latters) अक्षरों में कोई Difference नहीं होता अर्थात् अक्षर छोटा हो या बड़ा उसके लिए Morse Code एक ही रहता है। प्रत्येक मोर्स कोड का Symbol डॉट (•) और डैश (-) से मिलकर बनता है।

इसमें एक डैश की लम्बाई एक डॉट की लम्बाई का तीन गुना है। यदि मान लिया जाए कि इसमें एक डॉट की लम्बाई एक यूनिट है तब एक डैश की लम्बाई 3 यूनिट होगी। किसी भी वर्ण के भीतर प्रत्येक डॉट व डैश के मध्य में सिग्नल की अनुपस्थिति की अवधि या लम्बाई,जिसे Space कहते हैं, वो एक डॉट की लम्बाई के बराबर यानि एक यूनिट होती है।

शब्द के किन्हीं दो अक्षरों को तीन Dotts के बराबर के स्थान से अलग किया जाता है, और शब्दों को सात Dotts के बराबर स्थान द्वारा अलग किया जाता है।

SOS MORSE CODES


More articles 

आशा करते हैं Friends की आपको हमारे द्वारा SOS Morse Code के बारे मे लिखा गया Blog पसंद आया होगा। यदि हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इसे अपने Friends व Social Media Sites पर Share ज़रूर करें और यदि आपके मन में SOS Morse Code से संबंधित कोई सवाल उठ रहा है तो आप Comment करके पूछ सकते हैं तथा भविष्य में ऐसी ही रोचक जानकारियों के लिए हमारे Blog को follow कर सकते हैं, धन्यवाद।

Leave a Comment