GPS क्या है जीपीएस का क्या कार्य है ?

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

इस लेख में आज हम आपको GPS क्या होता है? जीपीएस से जुड़ा इतिहास क्या है? जीपीएस सिस्टम Work कैसे करता है? जीपीएस सिस्टम के कितने व कौन-कौन से Parts हैं? तथा GPS System के उपयोग क्या-क्या है? आदि के बारे में बताने वाले हैं। तो दोस्तों जीपीएस से संबंधित सभी जानकारियों के लिए हमारा यह Blog पूरा पढ़ें।

जीपीएस सिस्टम क्या होता है : WHAT IS GPS 

GPS Satellites (उपग्रहों) पर आधारित Navigation System है जो पूरी दुनिया के ज़मीनी उपयोगकर्ताओं को हर एक मौसम में उनकी Exact Location, Velocity (उनकी गति) और पूरे दिन का विशुद्ध समय पता करने में मदद करता है।

यह सिस्टम संयुक्त राज्य अमेरिका के रक्षा विभाग द्वारा पोषित व विकसित किया गया था। वैसे देखा जाए तो प्रारंभ इस सिस्टम को सेना के जवानों एवं सैन्य वाहनों की सहायता के लिए Design किया गया था,

लेकिन बाद में जनता की मांग पर उन सभी के लिए इसे Accessible बना दिया गया है जिनके पास GPS Receiver है। वर्तमान में अधिकतर इसका उपयोग लोगों, विमानन कंपनियों (Airlines), Shipping Firms, Courier Companies व Drivers द्वारा वाहनों को ट्रैक करने तथा एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के लिए बेहतर मार्ग खोजने हेतू किया जाता है।

विश्व का पहला जीपीएस सिस्टम 1960 के दशक में United States की नौसेना की जहाज़ों को समुन्द्र में अधिक सटीकता से Assist करने के लिए विकसित किया गया था। इसके पहले जीपीएस सिस्टम में कुल 5 Satellites शामिल थे जो हर एक घंटे बाद जहाज़ों को उनकी स्थिति के बारे में बताते थे।

GPS Full Form or GPS Full Form in Hindi

GPS FULL FORM
Global Positioning System
GPS FULL FORM IN HINDI
ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम

जीपीएस का इतिहास : HISTORY OF GPS 

सन् 1973 में संयुक्त राज्य अमेरिका ने जीपीएस सिस्टम, अपने पिछले Navigation Systems की सीमाओं (Limitations) से पार पाने के लिए Launch किया था।

इस सिस्टम को U.S. के रक्षा विभाग ने विकसित किया था जिसमें उसने कुल 24 Satellites का इस्तेमाल किया। यह प्रारंभिक रूप में संयुक्त राज्य अमेरिका की सेना द्वारा उपयोग हेतु विकसित किया गया तथा यह 1995 तक पूरी तरह कार्य करने लगा।

वैसे तो इस सिस्टम को इस्तेमाल करने के लिए 1980 से ही आम नागरिकों को आज्ञा दे दी गई थी लेकिन उनको मिलने वाला Signal सेना की तुलना में कमजोर होता था।

फिर सन् 1996 के आदेश के अनुसार 2 मई 2000 को GPS Signal के Restriction को हटाकर इसे विश्व भर के लोगों के लिए Available कर दिया गया। नवंबर 2005 के बाद से आधुनिक Satellites भेजकर जीपीएस सिस्टम में बहुत अधिक प्रभावशाली मनाया, अब यह सिस्टम पहले से कई गुना Accurate हो गया है।

Qualcomm ने मोबाइल फोन्स GPS को सफलतापूर्वक Implement कर लिया। इसके बाद विभिन्न साॅफ्टवेयर कंपनियों ने GPS का इस्तेमाल करके मोबाइल व विभिन्न इलैक्ट्रोनिक Devices पर Navigation व Location की सुविधा प्रदान करने लगे, जिसमें सबसे अधिक उपयोगी है Google Maps।

GPS कैसे काम करता है : HOW GPS SYSTEM WORKS

अबतक तो आप सभी यह जान गए होंगे कि GPS System क्या है? तथा यह क्यो शुरू किया गया था? चलिए अब हम यह जान लेते हैं कि GPS System वर्क कैसे करता है?

जीपीएस उपग्रहों की कक्षाओं को निर्धारित करने के लिए ट्रैकिंग स्टेशन रेडियो संकेतों का उपयोग करते हैं। हमारा फ़ोन सबसे पहले किसी नजदीकी सॅटॅलाइट से कनेक्ट होता है .और ये सिर्फ एक साथ कनेक्ट नहीं होता ये अपने नजदीकी 4 सॅटॅलाइट से कनेक्ट होता है .और ये 4 सॅटॅलाइट आपके फ़ोन से अलग अलग जानकारी लेते है और आपकी लोकेशन , स्पीड आचे से बता देते है

 

PARTS OF GPS SYSTEM

वैसे देखा जाए तो जीपीएस सिस्टम को मुख्य रूप से तीन भागों में विभाजित किया गया है, जो कि निम्न प्रकार से हैं:-

  1. Space Segment : इस भाग में पृथ्वी की 6 अलग-अलग कक्षाओं में परिक्रमा करने वाले NAVSTAR Satellites आते हैं। वर्तमान में पृथ्वी की में GPS के कुल 31 Satellites हैं।
  1. Control Segment : यह भाग धरती पर उस Station को दर्शाता है जो कि इस सिस्टम और इन Satellites को नियमित Maintain व Monitor करता है।
  2. User Segment : इस भाग में वे Users आते हैं जो Satellites से प्राप्त Navigation Signals को Process करके अपनी Position व Time का पता लगाते हैं।

जीपीएस का उपयोग : USE OF GPS 

वर्तमान में जीपीएस सेवा का इस्तेमाल हर वह व्यक्ति कर सकता है जिसके पास GPS Receiver, GPS Navigation Device या GPS Enabled Device है।

आजकल लगभग सभी कंपनियां जीपीएस के माध्यम से अपने ग्राहकों को Live Location के आधार पर अनेक सुविधाएं प्रदान कर रहीं हैं,जैसे कि Online Food Ordering Websites, Courier Companies, Cab Booking Companies आदि।

  • किसी भी व्यक्ति का सटीक Position पता करने के लिए।
  • एक स्थान से दूसरे स्थान पर सबसे अच्छा व समय में पहुंचने के मार्गदर्शन के लिए।
  • किसी व्यक्ति या वस्तु की Movement Track करने के लिए
  • इसका उपयोग करके पूरी दुनिया का बिल्कुल सटीक नक्शा बनाने के लिए।
  • इससे हम पूरे विश्व का एकदम सटीक Timing ज्ञात होता है।
  • आप जीपीएस सिस्टम का इस्तेमाल करके बुक की हुई Cabs,Trains, Online Order किया हुआ Food आदि की Live Location प्राप्त कर सकते हैं।

Global Positioning System


MORE FULL FORMS

आशा करते हैं Friends की आपको हमारे द्वारा GPS के बारे मे लिखा गया Blog पसंद आया होगा। यदि हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इसे अपने Friends व Social Media Sites पर Share ज़रूर करें

यदि आपके मन में GPS से संबंधित कोई सवाल उठ रहा है तो आप Comment करके पूछ सकते हैं तथा भविष्य में ऐसी ही रोचक जानकारियों के लिए हमारे Blog को follow कर सकते हैं, धन्यवाद।

Leave a Comment